Moneycontrol » समाचार » निवेश

स्मॉल सेविंग स्कीम में निवेश का मौका, कैसे उठाएं फायदा

प्रकाशित Fri, 13, 2017 पर 13:41  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

योर मनी रखता है आपके पैसों का ख्याल। अपनी कमाई को कैसे आप बचाएं, फिर सोच समझकर उन्हे कहां निवेश करें, हम आपको देते हैं इन सबके गुरूमंत्र। हम आपके तमाम सवालों के जवाब देंगें शो पर, लेकिन सवालों में हमारा फोकस आज होगा, युथ ब्रिगेड पर। युवाओं को हम समझाएंगें फाइनेंशियल प्लानिंग की अहमियत और देंगें उन्हे एक फायदेमंद रणनिती। योर मनी में हमारे साथ मौजूद  है 5फाइनेंस डॉटकॉम के सीईओ और फाउंडर दिनेश रोहिरा।


दिनेश रोहिरा का कहना है कि छोटी बचत योजनाओं यानि स्मॉल सेविंग स्कीम सेके लिए आधार जरुरी है। 31 दिसंबर, 2017 तक आधार लिंक करना जरूरी है। पीपीएफ, एनएससी स्कीम, केवीपी (किसान विकास पत्र) और पोस्ट ऑफिस जमा के लिए आधार लिंक करना जरूरी होगा। बैंक या पोस्ट ऑफिस में आधार नंबर या आधार आवेदन नंबर देना होगा। बेनामी ट्रांजैक्शन और काले धन पर लगाम लगाने के लिए कदम उठाया है। इससे टैक्स चुराने वालों पर भी शिकंजा कसेगा।


बता दें कि छोटी बचत खातों पर ब्याज दरें घटी है। पहले पीपीएफ में 8 फीसदी ब्याज दरें मिलती थी जो अब 7.8 फीसदी रह गई है। वहीं किसान विकास पत्र में 7.7 फीसदी से घटकर 7.5 फीसदी, सीनियर सिटिजन स्कीम में 8.5 फीसदी से घटकर 7.8 फीसदी, सुकन्या समृद्धि स्कीम में 8.5 फीसदी से घटकर 8.3 फीसदी हो गई है।


दिनेश रोहिरा ने आगे कहा कि स्मॉल सेविंग पर हर तिमाही में दरें नहीं बदली जातीं। लेकिन पिछले 2 साल में ब्याज दर पर 100-150 बेसिस प्वॉइंट की कटौती की गई है। हालांकि स्मॉल सेविंग में अभी भी निवेश का मौका है। स्मॉल सेविंग में टैक्स पर बचत के लिए कई स्कीम उपलब्ध है। लंबी अवधि के निवेश के तौर पर ये स्कीम्स चुन सकते हैं। पीपीएफ में लंबे समय के लिए निवेश रख सकते हैं और इसमें  टैक्स-फ्री 8 फीसदी का रिटर्न मिलेगा। रिस्क लेने की क्षमता होने पर डेट म्युचुअल फंड में निवेश बेहतर है।