रिटेल कारोबार पर फोकस कायम: सीडीएसएल -
Moneycontrol » समाचार » आईपीओ खबरें

रिटेल कारोबार पर फोकस कायम: सीडीएसएल

प्रकाशित Mon, 19, 2017 पर 14:27  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सेंट्रल डिपॉजिटरी सर्विसेज लिमिटेड यानी सीडीएसएल का आईपीओ आज से 21 जून तक के लिए खुल गया है। कंपनी ने एंकर इन्वेस्टर्स के जरिए 154 करोड़ रुपये जुटा लिए हैं। कंपनी इस इश्यू के जरिए 520 करोड़ रुपये जुटाएगी। आईपीओ का प्राइस बैंड 145 रुपये से 149 रुपये के बीच रखा गया है। जबकि लॉट साइज 100 शेयर का है।


सीडीएसएल की प्रोमोटर बीएसई है जिसकी कंपनी में 50 फीसदी हिस्सेदारी है। आईपीओ के बाद बीएसई की कंपनी में हिस्सेदारी घटकर 24 फीसदी रह जाएगी। आईपीओ के बाद सीडीएसएल का शेयर एनएसई पर लिस्ट होगा। सीडीएसएल देश की पहली लिस्ट होने वाली डिपॉजिटरी कंपनी है।


मोतीलाल, एंजेल ब्रोकिंग, निर्मल बंग, एलकेपी सिक्योरिटीज, केआर चोकसी, आईसीआईसीआई डायरेक्ट औऱ जीईपीएल कैपिटल की सीडीएसएल के आईपीओ में सब्सक्राइब करने की सलाह है।


सीडीएसएल के सीएफओ भरत शेठ ने सीएनबीसी-आवाज़ के साथ बात करते हुए कहा कि देश में इस समय डिपॉजिटरी सेवाएं देने वाली सिर्फ दो कंपनियां हैं जिसमें से सीडीएसएल एक है जो शेयरों के इलेक्ट्रॉनिक स्वरुप में डिमटेरियलाइजेशन से जुड़ी सेवाएं देती है। सीडीएसएल एक तरह का सिक्यूरिटीज बैंक है जो 1999 से अपनी सेवाएं दे रहा है।


भरत शेठ ने बताया कि देश में करीब 2 करोड़ 80 लाख डीमैट एकाउंट है जिसमें सीडीएसएल की हिस्सेदारी करीब 45 फीसदी है। सीडीएसएल में 1 करोड़ 26 लाख डीमैट एकाउंट होल्डर हैं। 4 साल में कंपनी का साल दर साल मुनाफा 7.47 फीसदी बढ़ा है। प्रमुख सरकारी बैंको और एलआईसी की कंपनी में हिस्सेदारी है। भारत में डिपाजिटरी सेवाओं के ग्रोथ की बहुत व्यापक संभावनाएं हैं।


भरत शेठ ने कहा कि सीडीएसएल अपने रीटेल कारोबार पर ही ज्यादा फोकस कर रही है क्योंकि कंपनी की आय प्रमुख रुप से ट्रांजेक्शन चार्ज पर ही निर्भर करती है।