Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

आवाज अड्डाः जीएसटी पर कंफ्यूजन, कितना फिट है सिस्टम!

प्रकाशित Thu, 15, 2017 पर 20:58  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

1 अप्रैल 2013 को पूरे देश में लागू होना था जीएसटी। भारत में ये कारोबारी टैक्स का सबसे बड़ा सुधार है। इसके लागू होने से बिजनेस और कंज्यूमर दोनों की जिंदगी बदल जाएगी। इस बात पर किसी को शक नहीं है। लेकिन फिर भी चार साल लेट होने के बाद अब आखिरकार एक जुलाई से जीएसटी लागू होने जा रहा है। एक देश एक टैक्स का सपना पूरा होने में अब सिर्फ पंद्रह दिन बचे हैं। मगर ऐसा लग क्यों नहीं रहा कि सब कुछ एकदम तैयार है। तरह तरह के सवाल और कनफ्यूजन तो हवा मे थे ही, अब तो व्यापारी सड़क पर भी उतरने लगे हैं। कहीं कोई रेट कम करने की मांग कर रहा है तो कोई टैक्स हटाने की।


जीएसटी दरों के खिलाफ कारोबारी सड़कों पर हैं। और किसी एक शहर में नहीं, कई शहरों में।दिल्ली, अहमदाबाद, मुंबई सहित देश के कई शहरों में कपड़ा और अनाज कारोबारी अपना विरोध दर्ज करा रहे हैं।


अनाज के साथ कपड़ा कारोबारियों ने भी जीएसटी दरों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। दिल्ली में अनाज व्यापारी भी विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। मुंबई और अहमदाबाद में कपड़ा व्यापारी जहां ज्यादा जीएसटी का विरोध कर रहे हैं वहीं अनाज व्यापारियों ने भी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। अनाज व्यापारी जीएसटी वापस लेने की मांग कर रहे हैं। अहमदाबाद में कपड़ा दुकानें बंद हैं। कुल 40 छोटे बड़े एसोसिएशन बंद में शामिल हैं। तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि किस तरह से कपड़ा दुकानों और फैक्ट्रियों पर ताले लगे हैं। 


वहीं मुंबई में भी कपड़ों पर ज्यादा जीएसटी से व्यापारी नाराज हैं। क्लॉथ मर्चेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन ने सरकार ने कपड़ों पर से जीएसटी हटाने की मांग की है। मुंबई में विरोध में शामिल बीजेपी विधायक राजपुरोहित ने कहा कि पिछले 30 सालों से व्यापारियो के साथ रहता हूं और इनकी मांग है कि जीएसटी कपड़ो पर नहीं लगना चाहिए और मेरा भी यही मानना है। कपड़े बाजार के साथ पूरा बीजेपी का समर्थन है।


जीएसटी सरकार का सबसे महत्वाकांक्षी टैक्स रिफॉर्म है। और 2 हफ्ते में ही इसे लागू होना है। कारोबारियों की मांग और दुविधा को छोड़ भी दें तो क्या जीएसटी लागू करने के लिए सिस्टम पूरी तरह तैयार है। केंद्र की तरफ से भरोसा भी मिल रहा है लेकिन राज्य इतने आश्वस्त नजर नहीं आ रहे हैं।


मध्यप्रदेश में भी कारोबारियों ने जीएसटी का विरोध किया है। राज्य में अनाज, दाल, कपड़ा और मेटल मार्केट में कारोबार पर बंद पड़ा है। मध्यप्रदेश और गुजरात के कई इलाकों में पावर लूम जीएसटी के विरोध में कपड़ा अनाज और मेटल कारोबारियों ने आज बंद किया है। मध्यप्रदेश के पावरलूम कारोबारियों की मांग है कि सरकार इस उद्धोग पर से जीएसटी वापस ले।


जिस जीएसटी नेटवर्क जीएसटीएन पर हम पूरी तरह निर्भर हैं उसकी टेस्टिंग का काम भी अभी पूरा नहीं हो पाया है। यही नहीं माइग्रेशन रजिस्ट्रेशन, मौजूदा स्टॉक पर इनपुट टैक्स क्रेडिट क्लेम, इनवॉयस संबंधी उलझन जैसे कई कंफ्यूजन हैं, जिनमें सफाई की जरूरत है।


ऐसे में सवाल ये है कि क्या एक जुलाई से जीएसटी लागू हो पाएगा। या इसके लिए कुछ और वक्त मिलना चाहिए, जैसा कुछ राज्य मांग कर रहे हैं।