Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

अयोध्या विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थता की दी सलाह

प्रकाशित Tue, 21, 2017 पर 16:10  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अयोध्या में विवादित ढांचे के समाधान पर सुप्रीम कोर्ट ने अहम टिप्पणी की है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि ये मसला धर्म और आस्था से जुड़ा है इसलिए दोनों पक्षों को रजामंदी से बातचीत कर मसले का समाधान कर लेना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधिश जेएस खेहर ने कहा है कि अगर दोनों पक्ष राजी हो तो वो कोर्ट के बाहर मध्यस्थता कर लें। इस मसले पर मुख्य न्यायाधीश ने कहा है मध्यस्थ भी सुप्रीम कोर्ट ही तय करेगा। चीफ जस्टिस ने मध्यस्थता की पेशकश करते हुए ये भी कहा कि अगर बातचीत से बात नहीं बनी तो कोर्ट फैसला करेगा।


सुप्रीम कोर्ट ने ये टिप्पणी सुब्रमणियन स्वामी की अपील पर सुनवाई के दौरान की है। जहां राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और बीजेपी ने इस सलाह का स्वागत किया है वहीं बाबरी मस्जिद एक्शन कमिटी ने कहा है कि अदालत का काम फैसला करना है ना कि मध्यस्थता।


सुब्रमणियन स्वामी का कहना है कि कोर्ट ने जो सलाह दी है वो अच्छा है और इससे राम मंदिर बनने का रास्ता साफ हो जाएगा। वहीं केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कोर्ट की राय का स्वागत किया है और कहा है कि ये अच्छी पहल है। बातचीत से मसले का समाधान हुआ तो ये पूरी दुनिया के लिए एक मिसाल होगा जबकि बाबरी मस्जिद एक्शन कमिटी के वकील जफरयाब जिलानी ने कहा है कि अब बातचीत का वक्त निकल चुका है। उन्होंने कहा कि कोर्ट के बाहर मसले के समाधान नहीं हो सकता है।