Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

डेरी, टेक्सटाइल में बाबा रामदेव का बड़ा प्लान

प्रकाशित Fri, 15, 2017 पर 16:06  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

पतंजलि की सफलता ने मल्टीनेशनल कंपनियों के पसीने छुड़ा दिए हैं। बाबा रामदेव का अध्यात्म से अर्थ तक का सफर बड़ा ही रोचक है। बाबा रामदेव ने अपने इस सफर के बारे में सीएनबीसी-आवाज़ से हुई बेबाक बातचीत में कहा कि पतंजलि को 10 हजार करोड़ रुपये की कंपनी बनाने का लक्ष्य है। अर्थ और अध्यात्म का संगम पर अपनी बात रखते हुए बाबा ने कहा कि जीवन अर्थ से ही सार्थक होता है। जीवन में प्रॉस्पैरिटी फॉर चैरिटी का लक्ष्य होना चाहिए। योग और उद्योग साथ-साथ संभव हैं। सभी काम देश हित के लिए किए हैं।


पतंजलि की आगे की क्या योजनाओं पर बात करते हुए बाबा रामदेव ने कहा कि पतंजलि के दूध और डेयरी प्रोडक्ट्स जल्द ही लॉन्च किए जाएंगे। इसके अलावा कपड़ों और एक्सेसरीज का नया ब्रांड भी लाया जाएगा। परिधान नाम से कपड़ों का ब्रांड लॉन्च करने की भी योजना है। फिलहाल 11 क्षेत्रों में पतंजलि का कारोबार है। कंपनी की 20 लाख करोड़ से ज्यादा के मार्केट पर नजर है।


पतंजलि की सफलता पर बात करते हुए बाबा रामदेव ने कहा कि शॉर्टकट से सफलता नहीं मिलती। कंपनी पर 100 करोड़ रुपये से ज्यादा लोगों का भरोसा है। उन्होंने कहा कि वे निजी हित के लिए कारोबार में नहीं है उनके लिए समाज का हित सबसे ऊपर है। बाबा ने आगे कहा कि उन्होंने धर्म को अर्थ के साथ जोड़ा है।


बाबा रामदेव ने कहा कि पतंजलि पर लोगों का भरोसा बढ़ रहा है, 1 साल के अंदर टर्नओवर में सबको पीछे छोड़ देंगे। पतंजलि ने विदेशी कंपनियों को शीर्षासन करवा दिया है। पंतजलि जल्द ही एचयूएल को भी पीछे छोड़ देगी। विदेशी कंपनियों ने देश के हित में कोई काम नहीं किया। विदेशी कंपनियां सिर्फ पैसे कमाना चाहती हैं। मल्टीनेशनल कंपनियां कॉरपोरेट लूट कर रही हैं, विदेशी कंपनियों की गुलामी मंजूर नहीं है।


एग्रीकल्चर सेक्टर पर अपनी योजनाओं पर बात करते हुए बाबा रामदेव ने कहा कि मैं प्रोफेशन से किसान और मिशन में योगी हूं। किसानों की हालत में सुधार के लिए सप्लाई चेन और अनाज अधिग्रहण में सुधार जरूरी है। खेती-बाड़ी पर पंतजलि का बड़ा फोकस है।


देश में अंधविश्वास पर बात करते हुए बाबा रामदेव ने कहा कि अंधविश्वास सिर्फ हमारे देश की समस्या नहीं, विदेशों में भी खूब अंधविश्वास है। हर धर्म में अंधविश्वास का बोलबाला है। साधु के जीवन में सादगी और पारदर्शिता होनी चाहिए। विचार और व्यवहार सही हो तो कोई फ्रिक्र नहीं।


फूड सिक्योरिटी के मुद्दे पर अपनी राय रखते हुए बाबा रामदेव ने का कहा कि सिर्फ रिफॉर्म नहीं क्रांति की जरूरत है। फूड सिक्योरिटी के साथ फूड सेफ्टी पर भी बात होनी चाहिए। नकली सामान और मिलावट इस वक्त बड़ी समस्या है। मिलावट करने पर आजीवन जेल होनी चाहिए। मिलावट लोगों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ है।


नकली सामान पर नकेल कैसे? इस सवाल पर बाबा रामदेव ने कहा कि दवाइयों में भी मिलावट होती है। भारत में बड़े बदलाव की जरूरत है। देश को अच्छा प्रधानमंत्री मिला है, मिलावट को लेकर कड़े कानून की जरूरत है। युवाओं की जिंदगी में योग के महत्व पर बाबा ने कहा कि सेहतमंद रहने के लिए योग जरूरी है, योग से शांति मिलती है। उन्होंने आगे कहा कि देश के लिए कुछ बेहतर करने का लक्ष्य है। हर क्षेत्र में देश का विकास होना चाहिए। 1 लाख करोड़ का दान करने का लक्ष्य है। बाबा ने आगे कहा कि मैं इंटरनेशनल फकीर हूं, मुझे फकीर के तौर पर ही याद किया जाए।