Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

प्रदूषण से बुरा हाल, ऑड-ईवन से कितनी होगी सफाई!

प्रकाशित Thu, 09, 2017 पर 18:40  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

दिल्ली में दम घुटता है। जीहां इस वक्त दिल्ली की हवा अपने इतिहास में सबसे ज्यादा खराब है हालात ये हैं कि आईएमए ने दिल्ली में हेल्थ इमरजेंसी की थी लेकिन अब इसके बाद हवा इतनी ज्यादा खराब है कि ये खतरनाक के स्तर को पार कर गई है और दिल्ली में सांस लेने वाले हर आमो खास की सेहत अब दांव पर है। लेकिन आखिर क्यों दिल्ली की ये हालत हुई। इतने शोर-शराबे के बावजूद भी दिल्ली की हवा को जहरीली होने से क्यों नहीं बचा पाए हम, ये किसका काम है और कौन इसके लिए जिम्मेदार इसी पर है।


दिल्ली में प्रदूषण से राहत दिलाने के लिए नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने सख्त कदम उठाया है। एनजीटी ने दिल्ली-एनसीआर में सभी तरह के कंस्ट्रक्शन पर रोक लगा दी है। साथ ही इंडस्ट्रियल गतिविधियों पर भी रोक लगा दी है। एनजीटी ने ये रोक 14 नवंबर तक लगाई है। गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों से दिल्ली में स्मॉग की वजह से सांस लेना दूभर हो गया है।


दिल्‍ली के हालाता बेहद खराब हो चुके हैं। नौबत ये आ गई है कि अब दिल्ली में ऑड-ईवन लागू करने का फैसला लिया गया है। दूसरी तरफ एनजीटी ने दिल्ली के बिगड़ते हालात पर फिर चिंता जाहिर की है।


पहला ऑड-ईवन 13 से 17 नवंबर तक चलेगा। वहीं दिल्ली की हवा में और जहर ना घुले इसके लिए ट्रकों की एंट्री और 10 साल पुरानी डीजल कार और 15 साल पुरानी पेट्रोल कार की एंट्री पर रोक लगा दी गई है। साथ ही एनजीटी ने दिल्ली-एनसीआर में 14 नवंबर तक सभी कंस्ट्रक्शन काम पर रोक लगा दी है। साथ ही आदेश दिया है कि जिन इलाकों में ज्यादा स्मॉग है वहां हेलिकॉप्टर से पानी का छिड़काव किया जाए। नगरपालिका को ये सुनिश्चित करने को कहा गया है कि दिल्ली में अभी कचरा ना जलाया जाए।
 
जहरीली धुंध की मार से कराह रही दिल्ली को लेकर एनजीटी ने सभी सरकारों को कड़ी फटकार लगाई है। एनजीटी ने ये भी कहा है कि संविधान में देश के नागरिकों को जीने का अधिकार मिला हुआ है पर वो छीना जा रहा क्योंकि वो साफ हवा में सांस तक नहीं ले पा रहे।


वहीं एनजीटी की फटकार और दिल्ली हाईकोर्ट की तल्ख टिप्पणी के बाद केजरीवाल ने एक बार सभी पक्षों से अपील की है कि प्रदूषण के खिलाफ जंग में सभी सरकारें साथ आएं। हालांकि उन्होंने कहा दिल्ली की ये हालत दूसरे राज्यों की सरकारों की वजह से हुई है। 


इधर, केंद्रीय पर्यावरण राज्य मंत्री महेश शर्मा ने कहा है कि आरोप -प्रत्यारोप से हटकर सबको इस मसले पर एक साथ मिलकर काम करना चाहिए। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का कहना है कि प्रदूषण कम करने के लिए वो जरूरी कदम उठा रहे हैं।


दिल्ली की जहरीली हवा से दिल्ली के लोग तो परेशान हैं ही साथ ही मुंबई के कॉरपोरेट्स भी काफी तकलीफ में हैं। दरअसल स्मॉग की वजह से वो दिल्ली ट्रैवल नहीं कर पा रहे हैं। उनका सारा काम रुका हुआ है।