Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

छोटी कारों की बिक्री पर ब्रेक, सेडान-एसयूवी का जमाना

प्रकाशित Mon, 16, 2018 पर 09:33  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

भारत में छोटी कारों का क्रेज अब खत्म हो रहा है। रिसर्च फर्म मार्किट के मुताबिक 2011-12 से 2017-18 के बीच छोटी कारें 13 लाख 58 हजार से घटकर 13 लाख 52 हजार रह गई है। जबकि इसी अवधि में पैसेंजर कारों की बिक्री में 27 फीसदी का इजाफा देखने को मिला और कुल बिक्री 26 लाख से बढ़कर 33 लाख हो गई। छोटी कारों की बिक्री में ये गिरावट मारुति के एंट्री लेवल ऑल्टो और वैगन आर की बिक्री आंकड़ों से समझा जा सकता है। 2017-18 में मारुति की दोनों छोटी कारों की बिक्री में महज 3 फीसदी का इजाफा हुआ है जबकि इसी अवधि में कॉम्पैक्ट सेडान और एसयूवी की बिक्री 28 और 29 फीसदी बढ़ी है।


जानकारों के मुताबिक अब कंज्यूमर का रुझान इसी सेग्मेंट में ज्यादा है और ज्यादातर नए लॉन्च भी इसी सेग्मेंट में देखने को मिल रहे हैं। जानकार इसके लिए सरकार की टैक्स नीतियों को भी जिम्मेदार बताते हैं। जीएसटी में अब कॉम्पैक्ट सेडान और छोटे एसयूवी पर भी वही टैक्स लागू होते हैं जो छोटी कारों पर लागू होते हैं। दूसरी तरफ एक्साइज ड्यूटी की संरचना भी ऐसी ही है। पेट्रोल, डीजल के बढ़ते दाम की वजह से भी मोटरसाइकिल से कार में शिफ्ट करने वालों की संख्या घटी है। जानकार बताते हैं कि सड़कों पर जाम, पार्किंग और इंफ्रास्ट्रक्चर की समस्या को देखते हुए अब सरकार को चाहिए कि वो छोटी कारों को बढ़ाने वाली नीतियां लेकर आए।