Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

ब्रांड बाजारः चॉकलेट कैंडीज पर भारी लोकल फ्लेवर

प्रकाशित Sat, 13, 2017 पर 12:33  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

हर सेक्टर में इंडियन ब्रांड्स बड़ी -बड़ी एमएनएस को कड़ी टक्कर दे रहें हैं। और अब कैंडी के बाजार में भी लोकल फ्लेवर हावी हो रहा है। हाल ही में लॉन्च हुई पास-पास, बाजार में अपनी अलग पहचान बना चुकी है और बेहद तेजी से आगे बढ़ रही है। किस तरह ये कैंडी ब्रॉड आज सबका फेवरेट बन चुका है।


कच्चा आम और उस पर चटपटा मसाला। इस फ्लेवर के हम सभी बड़े शौकीन है। और इसी फ्लेवर को कैंडी के रूप में उतारा है पास पास पल्स ने। रजनीगंधा  पानमसाला और कैच मसाला बनाने  वाली कंपनी डी एस ग्रुप ने 2015 में पास-पास पल्स कैंडी को लॉन्च  किया। देश के कैंडी बाजार के 50 परसेंट हिस्से पर क्च्चा आम और मैंगो फ्लेवर्ड कैंडीज का दबदबा है। ऐसे में अपने प्रोडक्ट को बाकियों से अलग करने के लिए इनोवेशन जरूरी है। पल्स की मसाले से भरी कैंडी का फॉर्म्यूला बाजार में यही नयापन लेकर आया। इस नए फ्लेवर का ही कमाल है कि ब्रैंड ने शुरुआती 6 महीने में 50 करोड़, 1 साल में 150 करोड़ और 2 साल में 300 करोड़ की बिक्री का आंकड़ा पार कर लिया है।


पल्स हार्ड बॉयल्ड कैंडीज मार्केट के बड़े खिलाड़ी जैसे मैंगो बाइट और एल्पेनलीबे और कैंडीमैन को भी पल्स कड़ी टक्कर दे रही है। और इतना ही नहीं। पल्स ने बड़ी एमएनसी को भी पीछे छोड़ दिया है।


जहां 2011 में लॉन्च हुए ब्रैंड ओरियो ने 283 करोड़ रुपये और मार्स बार्स ने 270 करोड़ का कारोबार किया। वहीं 2014 में लॉन्च हुई कोक जीरो भी सिर्फ 120 करोड़ रुपये की ही बिक्री कर पाई है। सालाना 14 फीसदी की ग्रोथ रेट से बढ़ रहे इस मार्केट में कॉम्पटीशन तेजी से बढ़ रहा है। पार्ले ने भी इस नए फ्लेवर की लोकप्रियता को देखते हुए पार्ले ने भी अपने कच्चा मैंगो बाईट का नया फ्लेवर स्पाइसी कच्चा मैंगो बाजार में उतार दिया है। आईटीसी के कैंडीमैन ने भी कच्चा आम का मसालेदार प्लेवर बाजार में उतार दिया है। 1 रुपये में मिलने वाली ये सभी कैंडीज़ बाजार में जगह बनाने की कोशिश कर रहीं हैं।


पल्स कैंडी की लोकप्रियता सिर्फ दुकानों तक ही सीमित नहीं है। बल्कि सोशल मीडिया पर भी इसके ढेरों फैन्स हैं। फेसबुक हो या ट्विटर, पल्स ने ग्राहकों तक पहुंचने का कोई प्लैटफॉर्म नहीं छोड़ा है। कंपनी ने हाल ही में अपना पहला टीवी विज्ञापन - प्राण जाए पर पल्स न जाए भी लॉन्च किया। टीवी के अलावा ये कैम्पेन यूट्यूब पर भी है जहां अब तक 1,84,177  लोग इसे देख चुके हैं। 
भारत के साथ साथ पल्स कैंडी सिंगापुर, यूएस, और यूके में भी अपनी बिक्री शुरू कर चुकी है। अब कंपनी मैंगो, गुआवा और ओरेंज फ्लेवर के बाद अब अपने नए फ्लेवर पाइनेप्पल के साथ बाजार में उतर रही है।