Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

बिल्डर्स के ऑडिट पर खरीदारों ने उठाए सवाल

प्रकाशित Fri, 08, 2017 पर 08:55  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

नोएडा-ग्रेटर नोएडा में पिछले 10 सालों से अपने घर का इंतजार कर रहे खरीदारों के लिए अहम खबर। नोएडा और ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी राज्य सरकार के आदेश के मुताबिक यहां के बिल्डर्स का ऑडिट तो करवा रही हैं, लेकिन सूत्रों के मुताबिक ये ऑडिट महज खानापूर्ति साबित हो सकता है।


नोएडा-ग्रेटर नोएडा में बिल्डर्स के ऑडिट की प्रक्रिया शुरू हो गई है। ग्रेटर नोएडा में 25 बिल्डरों के प्रोजेक्ट्स में 61,533 फ्लैट्स हैं जिनका ऑडिट प्राइवेट फर्म के जरिए हो रहा है। ऑडिट करने वाली कंपनी करी एंड ब्राउन बिल्डर्स के जरूरी कागजात भी इकट्ठा कर रही है। लेकिन इस ऑडिट की प्रक्रिया से यहां के घर खरीदार खुश नहीं हैं।


दरअसल, राज्य सरकार ने नोएडा-ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी को बिल्डर्स का ऑडिट कराने के आदेश दिए हैं लेकिन ये ऑडिट फोरेंसिक ऑडिट नहीं है। यानी अथॉरिटीज की तरफ से हो रही प्रक्रिया में बिल्डर्स खुद ऑडिट करने वाली कंपनी को दस्तावेज सौंपेंगे। और ऑडिट करने वाली कंपनी इन्हीं दस्तावेजों को देख कर रिपोर्ट तैयार करेगी जबकि फोरेंसिक ऑडिट में प्राइवेट कंपनी को खुद बिल्डर्स का ऑडिट करना होता है और उसके हर ट्रांजैक्शन और दस्तावेजों की अलग से जांच करनी होती है। यही वजह है कि घर खरीदार लंबे समय से बिल्डर्स के फोरेंसिक ऑडिट की मांग कर रहे थे।


यहां तक कि अथॉरिटी के अधिकारी से जब हमने बात की तो उनका भी मानना था कि हमें जो ऑडिट रिपोर्ट मिलेगा उससे बहुत कुछ हासिल नहीं होने वाला है। और यही वजह है कि अधिकारी यहां तक कह रहे हैं कि शायद ऑडिट के बावजूद इन बिल्डर्स के खिलाफ कार्रवाई करना भी मुश्किल हो।