Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

बिल्डर का घर खरीदारों के साथ धोखा, कब होगा एक्शन!

प्रकाशित Wed, 15, 2017 पर 18:20  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

जब कोई भी अपना घर खरीदता है तो न सिर्फ उसके जीवनभर की कमाई उसमें नहीं लगती है बल्कि उसके बहुत से सपने उसके साथ जुड़े होते हैं। लोग अपनी पूरी बचत घर में लगाते हैं, बैंक से लोन लेते हैं, मोटी मोटी ईएमआई चुकाते हैं लेकिन इतने सबके बाद अगर बिल्डर वक्त पर घर नहीं देता तो उस घर खरीदार पर जो गुजरती है वो सिर्फ वहीं समझ सकता है।


देश में बिल्डरों की धोखाधड़ी के हजारों किस्से चारों तरफ बिखरे पड़े हैं, यूनिटेक, जेपी, आम्रपाली ये तो वो बड़े नाम हैं जिनका जिक्र इन दिनों बहुत हो रहा है लेकिन ऐसे भी सैकड़ों छोटे और गुमनाम बिल्डर हैं तो घर खरीदारों को खून के आंसू रुला रहे हैं। आज हम मुद्दा उठा रहे हैं मुंबई के एक ऐसे प्रोजेक्ट का जहां पर घर खरीदारों के 200 करोड़ रुपये फंसे हुए हैं, 8 साल से ज्यादा का वक्त बीत चुका है लेकिन घर का कोई अता पता नहीं है।


ये है मुंबई का तनवी एमिनेंस प्रोजेक्ट जो 2009 से बन रहा है लेकिन 8 साल बीत जाने के बाद भी अधूरा है। घर खरीदारों ने मुंबई के मीरा रोड स्थित काशीमीरा इलाके में बन रहे इस प्रोजेक्ट में खून पसीने की कमाई लगा रखी ह। लेकिन कंपनी में पार्टनरों के आपसी झगड़े से खरीदारों का सपना चकनाचूर होने के साथ करोड़ों रुपए भी अटक गए हैं ।


दरअसल तनवी एमिनेंस प्रोजेक्ट दो चरणों में बनना था। इसके लिए काशीमीरा सिरेमिक प्रोडक्ट्स एलएलपी कंपनी बनाई गई। जिसमें तनवी कंस्ट्रक्शंस के विजय कुमार हेगड़े और उनकी पत्नी संगीता विजय कुमार, डायमंड मर्चेंट दयाभाई सुतारिया और भूपत लुखी शामिल हैं। ज्यादातर खरीदारों ने 2009 में ही प्रोजेक्ट में घर बुक कर लिए थे और अब तक 80 फीसदी से ज्यादा पेमेंट भी कर चुके हैं। उस वक्त बिल्डर ने 36 महीने में घर का पजेशन देने का वादा किया था। लेकिन 8 साल बीत जाने के बाद भी लोग अपने घर के लिए तरस रहे हैं ।


बिल्डर देरी के लिए कई तरह के बहाने बना रहे हैं लेकिन इसके पीछे की असली वजह है कंपनी में पार्टनरों का लालच और आपसी झगड़े और अब ये एक दूसरे पर दोष मढ़ रहे हैं ।


काशीमीरा सिरेमिक में पार्टनर भूपत लुखी का कहना है कि उन्होंने कंपनी में अपनी पूरी 33 फीसदी हिस्सेदारी बेच दी। लेकिन उनका नाम अभी भी आरओसी में दिखा रहा है। वहीं तनवी कंस्ट्रक्शंस के विजय कुमार और संगीता विजय कुमार दोनों पति पत्नी के बीच भी आपसी झगड़ा एक वजह है।


घर खरीदारों ने अपने घर की आस में वेलफेयर एसोसिएशन बनाकर रेरा में बिल्डर की शिकायत की। घर खरीदार मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से भी जाकर मिले। इतना ही नहीं, खरीदारों ने प्रधानमंत्री कार्यालय और गृह मंत्रालय को भी बिल्डर के खिलाफ चिट्ठी लिखी है। हालांकि इतनी दौड़भाग के बाद भी घर खरीदारों का सपना पूरा होगा ये कहना मुश्किल है।