Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

घर के सपने से फिर खिलवाड़, बिल्डर क्यों करते हैं ऐसा!

प्रकाशित Fri, 21, 2017 पर 18:32  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

देश में रियल एस्टेट रेगुलेटरी अथॉरिटी यानि रेरा आने वाला है और दूसरी तरफ बिल्डरों से जुड़ी शिकायतों का सिलसिला भी लगातार जारी है। इस बार खबर आई है यमुना एक्सप्रेस वे से जहां पर अथॉरिटी ने इसीलिए 17 प्रोजेक्ट अटका दिए हैं क्योंकि बिल्डरों ने आपत्ति के बावजूद नए बिल्डिंग प्लान नहीं दिए।


यमुना एक्सप्रेसवे पर 17 प्रोजेक्ट लटके हैं और यमुना एक्सप्रेसवे इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट अथॉरिटी ने ये बिल्डिंग प्लान रद्द किए हैं। जेपी इंफ्रा के 17 प्रोजेक्ट अटके हैं, जबकि गौरसंस के 2 प्रोजेक्ट अटके हैं। अजनारा, औरिस और वीजीए का प्रोजेक्ट भी अटक गया है। ये सारे प्रोजेक्ट सेक्टर 19, 25 और 22 बी में हैं।


दरअसल 2015-16 में बिल्डरों ने बिल्डिंग प्लान दिए, लेकिन अथॉरिटी ने बिल्डिंग प्लान में कमियां बताई। बिल्डरों से नए प्लान देने के लिए कहा गया। हालांकि बिल्डरों ने अब तक नए प्लान नहीं दिए हैं और बिल्डरों ने बिना प्लान अप्रूवल फ्लैट बेच दिए। इस बीच, यमुना एक्सप्रेसवे इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट अथॉरिटी ने बिल्डिंग प्लान रद्द कर दिए और अथॉरिटी ने अब तक की बिक्री का ब्यौरा मांगा है। बताना चाहेंगे कि बिना प्लान अप्रूवल के फ्लैट बेचना गलत है।