Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

कंज्यूमर अड्डा: एसिडिटी की दवा करेगी किडनी फेल!

प्रकाशित Wed, 11, 2018 पर 07:53  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अक्सर जब हमारी तबियत खराब होती है और हम डॉक्टर के पास जाते हैं तो वे पूछते हैं कि क्या आपको एसीडिटी की कोई समस्या है। ऐसा होने पर डॉक्टर आपको कोई एंटासिड गोली लिख के दे देते हैं। लेकिन गड़बड़ तब होती है जब हम डॉक्टर के लिखे पर्चे से भी आगे बढ़ जाते हैं, हमारी बाकी दवाइयां खत्म हो जाती हैं लेकिन हम कभी भी एसीडिटी होने पर ये दवाई खा लेते हैं। लेकिन क्या आप ये जानते हैं कि ये गोलियां आपकी किडनी को बड़ा नुकसान पहुचा सकती हैं।


एसिडिटी की दवा का ज्यादा इस्तेमाल खतरनाक हो सकता है। डॉक्टर एसिडिटी से बचने के  दवाएं लिए लिखते हैं। सीने में जलन के लिए भी दवाएं लिखते हैं। बता दें कि कई दवाओं के साइड इफेक्ट से एसिडिटी होती है। इन दवाओं को लंबे समय तक खाने से किडनी खराब हो सकती है। समस्या तो ये हैं कि लोग बिना डॉक्टर की सलाह के भी ये दवाएं लेते हैं।


इन दवाओं में पैन, पैन-डी पैंटोसिड, पैंटोसिड डीएसआर, पैंटॉप, पैंटॉप डी, पैंटोडैक, राजो, राजो डी, ओमेज, ओमेज डी के नाम आम हैं।


मरीजों के लिए सलाह ये हैं कि डॉक्टर की सलाह के बिना एसिडिटी की दवा ना लें। डॉक्टर एसिडिटी की दवा लिखे तो पूछें। डॉक्टर से पूछें क्या दवा लेना जरूरी है? दवा कितने दिनों तक लेनी होगी ये भी पूछें। लंबे समय तक एसिडिटी की दवा ना लें। पेट में सामान्य गैस बनने पर दवा ना लें। बाहर खाने के बाद ये दवा ना लें। 8 हफ्ते से ज्यादा एसिडिटी की दवा ना लें।


डॉक्टरों का कहना है कि एसिडिटी की दवा से खून पर असर। खून में मैग्नीशियम की कमी हो जाती है। इससे किडनी पर गलत असर पड़ सकता है। एसिडिटी होने पर बेचैनी होने लगती है। ऐसे में एसिडिटी की दवा लेना जरूरी हो जाता है लेकिन इसके लिए डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए।


एसिडिटी के बचने के लिए स्वस्थ लाइफस्टाइल अपनाएं। ज्यादा मसालेदार खाना ना खाएं। गैस बनाने वाला खाना ना खाएं। कैफीन वाले ड्रिंक्स ना पिएं और ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं।