Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

भारत में बढ़ी साइबर इंश्योरेंस की मांग

प्रकाशित Wed, 10, 2018 पर 10:38  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

भारत में डिजिटाइजेशन के साथ ही साइबर हमले का खतरा भी बढ़ता जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कहा है कि साइबर सुरक्षा सबसे बड़ी प्राथमिकता होनी चाहिए। जानकारों के मुताबिक साइबर हमलों को देखते हुए इससे जुड़े इंश्योरेंस की मांग भी तेजी से बढ़ रही है।


भारत में तेजी से बढ़ते साइबर हमलों ने साइबर इंश्योरेंस की मांग बढ़ा दी है। आईटी, बीपीओ और बैंकिंग सेक्टर के अलावा मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर से भी साइबर इंश्योरेंस की मांग बढ़ रही है। मौजूदा वित्त वर्ष में भारत में करीब 180 से 220 कंपनियों ने साइबर इंश्योरेंस लिया है। इसके लिए कंपनियों ने 65 से 80 करोड़ रुपये का प्रीमियम भरा है। आम तौर पर पूरे साल में 50 से 60 कंपनियां साइबर इंश्योरेंस खरीदती थीं। भारत दुनिया का 10वां सबसे ज्यादा साइबर हमले से प्रभावित देश है। केपीएमजी की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में करीब 79 फीसदी संगठनों ने साइबर सुरक्षा को टॉप पांच जोखिमों में से एक माना है।


दुनियाभर का साइबर सिक्योरिटी बाजार 2017 में करीब 5 लाख 67 हजार करोड़ रुपये का था जिसके 2025 तक करीब 11 लाख 34 हजार करोड़ रुपये होने की उम्मीद है। फिलहाल भारत में साइबर सिक्योरिटी बाजार करीब 10 हजार करोड़ रुपये है जिसके 2025 तक बढ़कर 2 लाख 20 हजार करोड़ होने की उम्मीद है। जानकारों का मानना है कि सरकार को साइबर सिक्योरिटी के बारे में जागरुकता फैलाने की जरूरत है। जानकारों का कहना है कि सरकार बजट में डिजिटाइजेशन के लिए 20 हजार करोड़ रुपये दे सकती है जिसमें से बड़ा हिस्सा साइबर हमलों से बचाने के लिए सुरक्षित नेटवर्क पर खर्च किया जा सकता है।