Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

दवा कंपनियों पर और कसेगा शिकंजा!

प्रकाशित Thu, 17, 2018 पर 17:14  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सरकार दवा कंपनियों की जिम्मेदारी तय करने जा रही है। अभी दवा की गुणवत्ता में कमी होने, मरीजों को साइडइफेक्ट होने या फिर बिना मंजूरी दवा निर्माण की चोरी पकड़े जाने पर सारा आरोप दवा मैन्युफैक्चर करने वाली कंपनियों पर डालकर फार्मा मार्केटिंग कंपनियां बचकर निकल जाती हैं। लेकिन सरकार जल्द ही एक कानून लाने जा रही है जिसके बाद फार्मा उत्पादों में कोई भी दिक्कत होने पर जितनी जिम्मेदारी मैन्युफैक्चरर की होगी उतनी ही मार्केटिंग कंपनी की भी होगी।


दरअसल, सरकार ड्रग एंड कॉस्मेटिक एक्ट 1940 में बदलाव करने की तैयारी कर रही है जिसके तहत सरकार दवा, कॉस्मेटिक्स की मार्केटिंग वाली कंपनियों पर नकेल कसने जा रही है। इसके तहत प्रोडेक्ट की गुणवत्ता खराब होने पर मार्केटिंग कंपनियां भी दोषी होंगी यानि अब मार्केटिंग कंपनियां, मैन्युफैक्चरर पर दोष मढ़कर बच नहीं सकेंगी। ड्रग एंड कॉस्मेटिक एक्ट में प्रावधान के तहत फिलहाल निर्माता कंपनी को ही दोषी माना जायेगा।


बता दें कि सरकार इसके लिए जल्द नोटिफिकेशन भी जारी करने जा रही है। इसमें 70 फीसदी दवा के पत्तों, शीशी पर नाम अलग-अलग होगा। मैन्युफैक्चरर और मार्केटर का नाम अलग-अलग होगा। नियमों के उल्लंघन पर 6 महीने की जेल का प्रावधान संभव है और उम्र कैद का प्रावधान भी हो सकता है। एक ही कंपनी कई मार्केटिंग कंपनियों के लिए दवा बनाती है।