ईवीएम की होगी अग्निपरीक्षा, चुनाव आयोग ने दी चुनौती! -
Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

ईवीएम की होगी अग्निपरीक्षा, चुनाव आयोग ने दी चुनौती!

प्रकाशित Sat, 20, 2017 पर 15:24  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

चुनाव आयोग ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन में गड़बड़ी के आरोप लगा रहे राजनीतिक दलों को खुली चुनौती दी है। आयोग आज लोगों को ईवीएम और वीवीपैट मशीनों के काम करने के तरीके का डेमो दिया वहीं इसी प्रोग्राम में ईवीएम को हैक किए जाने की चुनौती की तारीखों का भी एलान किया।


ईवीएम पर सवाल करने वाले राजनैतिक दलों को चुनौती देते हुए ईसी ने कहा है कि वे 3 जून से ईवीएम हैक करके दिखाएं, हर दल को हैकिंग के लिए 4 घंटे मिलेंगे। हैकिंग के लिए हर दल अपने 3 लोग चयनित करें और इन जुने गए लोगों के नाम 26 मई तक दिए जाएं।


चुनाव आयोग ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन में गड़बड़ी होने से पूरी तरह से इनकार कर दिया है। मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी ने कहा कि ये मशीनें इंटरनेट से नहीं जुड़ती और ना ही किसी तरह का इनमें रिसिवर लगा है। लिहाजा इन्हें हैक करना नामुमकिन है। कुछ राजनीतिक दलों ने शिकायत ने मशीनों को हैक होने की शिकायत की थी। लेकिन किसी ने भी छेड़छाड़ का सबूत नहीं दिया। उन्होंने बताया कि आगे से सभी चुनाव वीवीपैट मशीनों से कराया जाएगा जिसमें वोटिंग के बाद मतदाता को उसकी पर्ची भी प्रिंट होकर मिलेगी।


ईवीएम पर चुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस में आज चुनाव आयोग यानि ईसी ने कहा कि ईवीएम पूरी तरह सुरक्षित हैं, इनको हैक नहीं किया जा सकता। ईवीएम किसी भी इंटरनेट से कनेक्ट नहीं होती, इसकी समय-समय पर जांच की जाती रहती है। ईसी ने आगे कहा कि ईवीएम को लेकर गड़बड़ी की आशंकाएं जताई गई हैं। राज्यों के चुनाव के बाद कुछ आशंकाएं जताई गईं। लेकिन किसी पार्टी ने ईवीएम हैक के सबूत नहीं दिए। अब तक ईवीएम में गड़बड़ी के कोई सबूत नहीं मिले हैं।


ईसी के मुताबिक ईवीएम के साथ वीवीपैट यानि वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल मशीनें लगाई जाएंगी। वीवीपैट मशीनों से चुनावों में पारदर्शिता आएगी और मतदाता का भरोसा बढ़ेगा। चुनावों में वीवीपैट मशीन का इस्तेमाल किया जाएगा। ईसी ने ये भी कहा कि ईवीएम में कोई डाटा पहले से लोड नहीं होता। अधिकारियों को भी ई नंबर की जानकारी नहीं होती। ईवीएम बनाते वक्त भी इसमें छेड़छाड़ संभव नहीं है। ईवीएम को लेकर कड़े नियमों का पालन किया जाता है।