फरवरी में आईआईपी ग्रोथ घटकर -1.2% -
Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

फरवरी में आईआईपी ग्रोथ घटकर -1.2%

प्रकाशित Wed, 12, 2017 पर 17:37  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

ग्रोथ में सुधार की उम्मीदों को तगड़ा झटका लगता दिखाई दे रहा है। आईआईपी ग्रोथ की रफ्तार उम्मीद से भी खराब रही है। फरवरी में आईआईपी ग्रोथ 1.8 फीसदी रहने का अनुमान है। हालांकि फरवरी में आईआईपी ग्रोथ घटकर -1.2 फीसदी रही है। वहीं, जनवरी में आईआईपी ग्रोथ 2.7 फीसदी रही थी। सालाना आधार पर अप्रैल-फरवरी के दौरान आईआईपी ग्रोथ 2.6 फीसदी से घटकर 0.4 फीसदी रही है।


महीने दर महीने आधार पर फरवरी में माइनिंग सेक्टर की ग्रोथ 5.3 फीसदी से घटकर 3.3 फीसदी रही है। महीने दर महीने आधार पर फरवरी में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की ग्रोथ 2.3 फीसदी से घटकर -2 फीसदी रही है। महीने दर महीने आधार पर फरवरी में इलेक्ट्रिसिटी सेक्टर की ग्रोथ 3.9 फीसदी से घटकर 0.3 फीसदी रही है।


महीने दर महीने आधार पर फरवरी में बेसिक गुड्स की ग्रोथ 5.3 फीसदी से घटकर 2.4 फीसदी रही है। महीने दर महीने आधार पर फरवरी में कैपिटल गुड्स की ग्रोथ 10.7 फीसदी से घटकर -3.4 फीसदी रही है। महीने दर महीने आधार पर फरवरी में इंटरमीडिएट गुड्स की ग्रोथ -2.3 फीसदी से बढ़कर -0.2 फीसदी रही है।


महीने दर महीने आधार पर फरवरी में कंज्यूमर गुड्स की ग्रोथ -1 फीसदी से घटकर -5.6 फीसदी रही है। महीने दर महीने आधार पर फरवरी में कंज्यूमर ड्युरेबल्स की ग्रोथ 2.9 फीसदी से घटकर -0.9 फीसदी रही है। महीने दर महीने आधार पर फरवरी में कंज्यूमर नॉन-ड्युरेबल्स की ग्रोथ -3.2 फीसदी से घटकर -8.6 फीसदी रही है।


केयर रेटिंग्स के चीफ इकोनॉमिस्ट मदन सबनवीस का कहना है आरबीआई को मंहगाई पर नहीं, ग्रोथ पर फोकस करना चाहिए। उनका कहना है कि मंहगाई के ज्यादा बढ़ने का खतरा नहीं है। मार्केट एक्सपर्ट निपुण मेहता का कहना है कि बाजार पर इसका ज्यादा असर नहीं होगा। आईआईपी के आंकड़े को बाजार सिर्फ थोड़े समय के लिए ही देखेगा।