Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

जोर पकड़ रहा नया ट्रेंड, होटल में 1 घंटा रुके

प्रकाशित Wed, 19, 2017 पर 17:43  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

रेस्टोरेंट में जितना खाना उतना ही बिल के बाद अब होटल में जितनी देर ठहरिए उतने का ही पैसा दीजिए। जी हां अब बड़े शहरों में प्रति घंटे के अनुसार भुगतान करने के कॉन्सेप्ट का होटलों में ट्रेंड चल पड़ा है। आप किसी ऑफिस के काम के लिए दूसरे शहर आए हैं या फिर सैर सपाटे के लिए। आपको सिर्फ फ्रेश होने के लिए होटल चाहिए क्योंकि पूरा दिन तो आपको बाहर ही रहना है। लेकिन करें क्या किराया तो पूरे दिन का देना होगा। जी नहीं, अब आप सिर्फ उतने घंटे का ही किराया दीजिए जितने घंटे आप होटल में रुकते हैं। तो क्या है ये कॉन्सेप्ट?


होटल इंडस्ट्री का नया कॉन्सेप्ट है पे पर आवर। ये कॉन्सेप्ट होटल मालिकों और मेहमानों दोनों के लिए फायदे का सौदा है। मेहमानों को 200-300 रुप/s प्रति घंटे में भी अच्छा होटल मिल जाता है और होटलों को एक ही कमरे के लिए एक ही दिन में कई मेहमान। नए स्टार्टअप्स जैसे लवस्टे, मी स्टे और फ्रेस्टल जैसे पोर्टल्स खास तौर पर इसी कॉंन्सेप्ट को लेकर आगे बढ़ रहे हैं। इनमें आपको ऑनलाईन ही अपने ठहरने का समय बताना होता है।


दिल्ली, मुंबई, बंगलुरू जैसे शहरों में शॉर्ट स्टे होटल्स तेजी से खुल रहे हैं। पे पर आवर बुकिंग वाले होटलों की मानें तो उनके पास पिछले कुछ महीनों में ऐसे मेहमानों की संख्या बढ़ी है। ज्यादातर मेहमान ऐसे होते हैं जो किसी कॉर्पोरेट मीटिंग के लिए आए होते हैं या फिर तीर्थ यात्रा के लिए।