Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

फीस पर स्कूलों की मनमानी जारी

प्रकाशित Wed, 16, 2018 पर 10:01  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

सरकार की सख्ती के बावजूद स्कूल मनमानी फीस वसूलने से बाज नहीं आ रहे। स्कूलों में बढ़ती फीस से अभिभावकों को राहत देने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार अप्रैल में अध्यादेश लेकर आई थी। लेकिन स्कूल दूसरे तरीकों से अभिभावकों से ज्यादा फीस वसूल रहे हैं।


स्कूलों में बढ़ती फीस अभिभावकों के लिए चिंता का कारण बनती जा रही है। इससे निपटने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार अप्रैल में अध्यादेश लेकर आई थी। लेकिन इसका कोई असर होता दिखाई नहीं दे रहा। अध्यादेश के मुताबिक स्कूल फीस में 7-8 फीसदी से ज्यादा बढ़ोतरी नहीं कर सकते। स्कूल किसी भी क्लास में भर्ती होने वाले नए छात्रों से कितनी भी एडमिशन फीस ले सकता है। लेकिन फीस सरकार गाइडलाइंस के मुताबिक ही होगी। लेकिन अभिभावकों का मानना है कि स्कूल दूसरे रास्ते से फीस वसूल रहे हैं।


डीपीएस इंदिरापुरम, एमिटी इंटरनेशनल वसुंधरा, बाल भारती बृज विहार जैसे कई निजी स्कूलों ने अपनी फीस बढ़ा दी है। फीस बढ़ोतरी को लेकर अभिभावकों के आरोपों पर स्कूल प्रशासन से कोई जवाब नहीं मिल पाया है। वहीं अभिभावकों का कहना है कि सरकार का अध्यादेश स्कूलों की मनमानी पर लगाम नहीं लगा पा रहा है।


अध्यादेश के मुताबिक यूपी के स्कूलों को शैक्षणिक सत्र शुरू होने के 60 दिन पहले स्कूल की वेबसाइट पर फीस स्ट्रक्चर डालना पड़ेगा। साथ ही स्कूल की फीस पेमेंट मासिक, तिमाही या छमाही किस तरह से होगी वो भी बताना होगा। अध्यादेश में नियमों का उल्लंघन करने पर स्कूलों पर 1 से 5 लाख रुपये तक जुर्माना लगाने और लाइसेंस रद्द करने का भी प्रावधान है।