Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

दलाल स्ट्रीट क्यों बना हलाल स्ट्रीट, क्या है वजह

प्रकाशित Wed, 07, 2018 पर 10:01  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बाजार में गिरावट से आम निवेशक हैरान है, उसे समझ नहीं आ रहा है कि महज चंद दिनों में ऐसा क्या बदल गया कि लगातार भाग रहा बाजार औंधे मुंह गिर गया। हम निवेशकों की इसी उलझन को दूर करने की कोशिश कर रहे हैं।


दरअसल बाजार बढ़ी बॉन्ड यील्ड से डर गया है। बॉन्ड यील्ड, यानि बॉन्ड पर मिलने वाला रिटर्न होता है। बॉन्ड यील्ड बढ़ने का मतलब बॉन्ड से ज्यादा कमाई और अमेरिका में बॉन्ड यील्ड 4 साल के उच्चतम पर पहुंच गई है। जर्मन बॉन्ड में भी उछाल दिखा है, जबकि भारत में भी 10 साल के बॉन्ड की यील्ड बढ़ी है।


दरअसल ब्याज दरें बढ़ने से शेयर महंगे और बॉन्ड आकर्षक लगते हैं। ब्याज दरें बढ़ने से कंपनियों की लागत बढ़ेगी। साथ ही कंपनियों के मार्जिन और मुनाफे पर दबाव मुमकिन है। बॉन्ड यील्ड बढ़ने से ग्रोथ की रफ्तार धीमी होने का खतरा है। गाड़ी और घर खरीदना महंगा होगा। वहीं लिक्विडिटी कम होने से फिक्स्ड इनकम में निवेश बढ़ सकता है। प्रभुदास लीलाधर की ज्वॉइंट एमडी अमीषा वोरा का कहना है कि ग्लोबल मार्केट में दबाव से भारतीय बाजार में गिरावट है और ये गिरावट थोड़े समय के लिए और देखने के मिल सकती है।


इसके अलावा क्रूड के बढ़ते दामों से बाजार में चिंता बढ़ रही है । इतना ही नहीं बजट में लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन्स टैक्स के एलान के बाद से बड़े निवेशक नाराज हैं जिसकी वजह से बाजार में बिकवाली बढ़ रही है।


बाजार के एक्सपर्ट्स के मुताबिक बाजार में गिरावट अभी खत्म नहीं हुई है। यही नहीं मार्केट एक्सपर्ट आनंद टंडन का कहना है कि बाजार में गिरावट और गहरा सकती है जिसके चलते एसआईपी में निवेश भी कम हो सकता है। मॉर्गन स्टैनली इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर रिधम देसाई का मानना है कि बाजार की गिरावट में बजट का कोई लेना देना नहीं है। रिधम के मुताबिक बाजार में गिरावट सिर्फ कमजोर ग्लोबल संकेतों के चलते है। 3-4 महीने तक बाजार ग्लोबल संकेतों के दम पर ही चलेगा।


उधर इंडिया इंफोलाइन के एग्जिक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट संजीव भसीन का कहना है कि बाजार में गिरावट के बीच अभी भी ऐसे स्टॉक्स हैं जिनमें निवेश करना फायदे का सौदा साबित हो सकता है। उधर मार्केट एक्सपर्ट अजय बग्गा का कहना है कि जब अमेरिकी बाजार रिकवर करेंगे तब आईटी शेयरों में उछाल देखने को मिलेगा। इसके अलावा मेटल्स शेयरों में निवेश करना भी फायदेमंद हो सकता है।