Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

ड्राइविंग लाइसेंस से पहले तेल बचाने की ट्रेनिंग!

प्रकाशित Fri, 18, 2018 पर 16:31  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

1 जुलाई से भारी और मध्यम कमर्शियल वाहनों के ड्राइवरों को लाइसेंस लेने से पहले तेल बचाने की ट्रेनिंग लेना अनिवार्य होगा। पेट्रोलियम कंजर्वेशन रिसर्च एसोसिएशन के प्रस्ताव को हरी झंडी देते हुए मोटर व्हीकल एक्ट में बदलाव कर दिया गया है। अब ड्राइविंग लाइसेंस से पहले तेल बचाने का ट्रेनिंग सर्टिफिकेट लेना होगा। बढ़ते पेट्रोल और डीजल के दामों के बीच अब सरकार ड्राइवरों को इनकी बचत का पाठ पढ़ाएगी। भारी और मध्यम कमर्शियल वाहनों के ड्राइवरों को अब पेट्रोल और डीजल की बचत की ट्रेनिंग लेना जरूरी होगा। पेट्रोलियम कंजर्वेशन रिसर्च एसोसिएशन ने इसकी सिफारिश की थी जिसे रोड ट्रांसपोर्ट मंत्रालय ने मान लिया है।


नए नियमों के मुताबिक तेल की बचत सिखाने के लिए ड्राइवरों का 5 किलोमीटर का टेस्ट होगा। इसके लिए स्पीड ब्रेकर वाला ट्रैक बनाया जाएगा। गाड़ी में तेल खपत की क्षमता मापने वाले यंत्र लगाए जाएंगे। ड्राइवरों को एक दिन की पढ़ाई भी कराई जाएगी। इसमें तेल की बचत करने के तरीके सिखाए जाएंगे। सभी टेस्ट को सफलतापूवर्क पास करने वाले ड्राइवरों को सर्टिफिकेट दिया जाएगा। इसी सर्टिफिकेट के आधार पर ड्राइविंग लाइसेंस बनेगा। पेट्रोल, डीजल की कीमतें लगातार बढ़ रही हैं। बेवजह और गलत तरीके से गाड़ी चलाने से तेल की बर्बादी को ट्रेनिंग के जरिए रोका जा सकता है।