Moneycontrol » समाचार » राजनीति

आवाज़ अड्डाः राहुल को लगा झटका, अब कैसे आएगा भूकंप

प्रकाशित Wed, 11, 2017 पर 21:01  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

छुट्टी से लौटे राहुल गांधी आज पूरे फॉर्म में नजर आएं। कांग्रेस पार्टी के जनवेदना सम्मेलन में बात होनी थी नोटबंदी से हुई लोगों की परेशानी की, लेकिन अपने भाषण का ज्यादातर वक्त राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधने में लगाया। अब इसे खराब टाइमिंग कहिए या राहुल गांधी के लिए बैड लक, लेकिन उनका नरेंद्र मोदी पर ये राजनीतिक प्रहार उसी समय हुआ जब सुप्रीम कोर्ट के एक महत्वपूर्ण फैसले ने राहुल के भूकंप की चेतावनी की हवा निकाल दी। आपको याद होगा कि राहुल गांधी ने कहा था कि उनके पास नरेंद्र मोदी के भ्रष्टाचार के सबूत हैं। आज सुप्रीम कोर्ट ने इस सबूत को नकारते हुए सहारा और बिड़ला ग्रुप की कंपनियों पर पड़े छापे में मिले कागजात पर जांच के आदेश देने से इनकार कर दिया। सीधे कहें तो, राहुल के भूकंप को आज बड़ा झटका लग गया।


राहुल गांधी के भूकंप को सुप्रीम कोर्ट ने करारा झटका दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने सहारा और बिड़ला ग्रुप की डायरियों की जांच का आदेश देने से इनकार कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने डायरी को ठोस सबूत नहीं माना है। इन्हीं डायरियों के आधार पर राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ सहारा और बिड़ला ग्रुप से पैसे लेने का आरोप लगाया था। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद भी राहुल गांधी अपनी रट छोड़ने को तैयार नहीं हैं।


उधर बीजेपी ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राहुल गांधी पर पलटवार किया है। हालांकि, इस मामले को सुप्रीम कोर्ट ले जाने वाले प्रशांत भूषण ने कोर्ट पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहिम को झटका लगेगा।


सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राहुल गांधी के आरोपों की बुनियाद ही हिल गई है। क्या उन्होंने दूसरे के कथित सबूतों पर भरोसा करके बड़ी राजनीतिक गलती की है, ऐसे में क्या अब राहुल गांधी को अपने आरोपों पर सफाई नहीं देनी चाहिए थी। दरअसल राहुल गांधी ने खुले मंच से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए सहारा ग्रुप से 40 करोड़ रुपये लेने का आरोप लगाया था। साथ ही पीए मोदी पर बिड़ला ग्रुप से भी पैसे लेने का आरोप लगाया गया था।


इस बीच, आज कांग्रेस पार्टी के जनवेदना सम्मेलन में बोलते हुए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि नोटबंदी देश के लिए आपदा के समान है, और अभी और बुरा समय आना बाकी है। मोदी सरकार के दावे पूरी तरह खोखले हैं। देश की आय लगातार घट रही है। मोदी सरकार के अंत की शुरुआत हो चुकी है।


वहीं नोटबंदी के बाद वर्ल्ड बैंक ने अपनी रिपोर्ट में भारत की ग्रोथ का अनुमान घटा दिया है। वर्ल्ड बैंक ने 2016-17 के लिए भारत की ग्रोथ का अनुमान घटाकर 7 फीसदी कर दिया है। वर्ल्ड बैंक ने 2016-17 में भारत के लिए पहले 7.6 फीसदी की ग्रोथ का अनुमान दिया था। हालांकि वर्ल्ड बैंक का कहना है कि नोटबंदी से मध्यम अवधि में बैंकों को फायदा होगा।