Moneycontrol » समाचार » राजनीति

कर्नाटक चुनाव से पहले बीजेपी को बड़ा झटका

प्रकाशित Mon, 09, 2018 पर 08:24  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कर्नाटक में चुनाव से पहले बीजेपी को बड़ा झटका लगा है। लिंगायत समुदाय के 30 बड़े गुरुओं ने कांग्रेस को समर्थन देने का ऐलान कर दिया है। इसकी मुख्य वजह सिद्धारमैया सरकार का लिंगायत को अल्पसंख्यक धर्म का दर्जा देने का फैसला माना जा रहा है। अभी तक लिंगायत समुदाय बीजेपी का परंपरागत वोट बैंक रहा है। बीजेपी सीएम पद के प्रत्याशी बीएस येदियुरप्पा भी लिंगायत समुदाय से ही आते हैं। कर्नाटक में करीब 18 फीसदी लिंगायत समुदाय के लोग हैं जिनका कर्नाटक की 224 विधानसभा सीटों में से 100 से अधिक सीटों पर प्रभाव है।


उधर कर्नाटक में चुनाव प्रचार में लगे राहुल गांधी कल अमित शाह के जानवर वाले बयान पर बोले और देश में दलित उत्पीड़न के नाम पर पीएम मोदी पर भी निशाना साधा। उनहोंने कहा देश में 2 लोग ही हैं जो जानवर नहीं हैं। उनमें से एक हैं नरेंद्र मोदी और दूसरे अमित शाह। इनके लिए बाकी सभी लोग जानवर हैं। दलितों के साथ जो हो रहा है वो शर्मनाक है। ये बहुत डरावना है, लेकिन पीएम चुप हैं। देश में अंबेडकरजी की मूर्तियां तोड़ी जा रही हैं। देश में दलितों को मारा जा रहा है। पीएम कहते हैं कि वो अंबेडकर की मूर्ति को प्रणाम करते हैं। ये आपकी गलत मानसिकता को दिखाता है।


उधर बीजेपी दलित समुदाय को मनाने के लिए भले ही पूरे देश में 13 और 14 अप्रैल को ज्योतिबा फुले और अंबेडकर जयंती मनाने का ऐलान कर चुकी है। लेकिन उनकी अपनी ही पार्टी के कई दलित सांसद सरकार के कामकाज से खुश नहीं हैं। अशोक दोहरे, सावित्रीबाई फुले, छोटेलाल खरवार और यशवंत सिंह दलितों के मसले पर राज्य और केंद्र सरकार के खिलाफ आवाज बुलंद कर चुके हैं। अब इस कड़ी में उदित राज का नाम भी जुड़ गया है। उदित राज का कहना है कि भारत बंद के दौरान शामिल होने वाले लोगों को फर्जी केसों में फंसाया जा रहा है और पुलिस उनके साथ मारपीट भी कर रही है। उदित राज का कहना है कि अगर सरकार ने कुछ नहीं किया तो पार्टी को नुकसान भी हो सकता हैं।


वहीं दलितों के उत्पीड़न के मुद्दे पर मायावती ने भी बीजेपी को निशाने पर लिया। मायावती ने कहा कि बीजेपी की हार तय है इसलिए बीजेपी दलितों को परेशान कर रही है।