Moneycontrol » समाचार » प्रॉपर्टी

इंडिया रियल एस्टेटः अलीबाग में बढ़ता रियल एस्टेट

प्रकाशित Tue, 14, 2017 पर 14:13  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

महाराष्ट्र में रायगढ़ जिले का बेहद खास हिस्सा अलीबाग, खूबसूरत बीच, सुदूर तक फैली हरियाली और आबो हवा की ताजगी अलीबाग को एक बेहतरीन पिकनिक प्लेस बनाती है। मुंबई से अलीबाग जाने के लिए सबसे बेहतर जरिया है, फेरी या स्पीड बोट, वैसे तो ये रोड से भी कनेक्ट है लेकिन समय की बचत और रोमांच भरे सफर की नजर से समुद्री रास्ता ज्यादा माकूल है। अलीबाग अपनी कई खूबियों के चलते सैलानियों की पसंद बना हुआ है। मसलन वॉटर स्पोर्ट्स, सीफूड, और साफ सुथरे बीच यहां गोवा का अहसास दिलाते हैं।


अलीबाग का सोशल इंफ्रास्ट्रक्चर यानी हॉस्पिटल्स, स्कूल्स तो अच्छे हैं ही इसके अलावा होटल्स और रिसॉर्ट्स की तो यहां भरमार है। इन्हीं खूबियों के चलते लोग यहां सेकेंड होम या वीकेंड होम्स के विकल्प तलाश रहे हैं। इसी वजह से यहां एक नई तरह का रियल इस्टेट बाजार विकसित हो रहा है। जहां घर के साथ ही बुनियादी सुविधाओं का तालमेल भी नजर आ रहा है।


मुंबई के सुमेर ग्रुप उन चुनिंदा डेवलपर्स में से एक हैं जिन्हें रियल एस्टेट में 5 दशक से ज्यादा वक्त हो चुका है। 1965 में सुमेर ग्रुप की नींव स्वर्गीय सुमेरमलजी शाह ने रखी थी। मौजूदा वक्त में कंपनी के चेयरमैन रमेश शाह और सीईओ राहुल शाह हैं जिन्हें रियल एस्टेट का अनुभव विरासत में मिला है साथ ही नई तकनीक और एडवांस कंस्ट्रक्शन पर भी ये मजबूत पकड़ रखते हैं। 52 साल के लंबे वक्त में कंपनी ने रियल्टी सेक्टर में बेहतरीन काम के चलते ग्राहकों में विश्वास कायम किया है।
सुमेर ग्रुप ने मुंबई, थाणे, अलीबाग और गोवा में कुल मिलाकर करीब 50 प्रोजेक्ट पर 30 मिलियन वर्गफीट कंस्ट्रक्शन किया है। इनमें रेजीडेंशियल और कमर्शियल प्रोजेक्ट शामिल हैं। इसके अलावा 10 प्रोजेक्ट अंडरकंस्ट्रक्शन हैं। सुमेर ग्रुप को एसआरए यानि स्लम रिहैबिलेशन स्कीम के प्रोजेक्ट्स का काफी उम्दा अनुभव है। इसी के चलते कंपनी ने टीडीआर यानि ट्रांसफर डेवलपमेंट राइट के जरिए 1000 करोड़ का रेवेन्यु बनाया है। कंपनी के पास कंस्ट्रक्शन की हाइली प्रोफेश्नल टीम है जो वर्तमान और भविष्य के प्रोजेक्ट्स की तैयारी में लगी है।  


सुमेर ग्रुप का 8 नॉटिकल माइल्स एक वीकेंड होम या सेकेंड होम प्रोजेक्ट है जो अलीबाग में बनाया गया है। 8 नॉटिकल माइल्स मांडवा बीच से करीब 10 किलोमीटर की दूरी पर है और किहींम बीच से करीब 5 किलोमीटर दूर है। मांडवा बीच से विला तक आने जाने के लिए गाड़ी का इंतजाम कंपनी की ओर से रहता है। 3.5 एकड़ की जमीन पर यहां कुल 6 विला बनाए गए हैं जिनमें 12 घर हैं। पूरी जमीन के 60 प्रतिशत हिस्से को खुला रखा गया है।


आलीशान आर्किटेक्टर के साथ हर विला को इस तरह से प्लान किया गया है कि हर घर को प्राइवेट एंट्री मिलती है। मेन गेट से बीचों बीच रोड बनाई गई है और दोनों ओर 3-3 विला को डिवाइड किया गया है, जगह का भरपूर इस्तेमाल करते हुए अच्छी खासी पार्किंग दी गई है, वीकेंड होम है इसलिए यहां ऑन डिमांड हाउसकीपिंग सर्विस की भी सुविधा है। इस प्रॉपर्टी की सबसे खास बात ये है कि अगर आप चाहें तो अपने घर का कमर्शियल यूज भी कर सकते हैं यानि इसे टूरिस्ट के लिए किराए पर भी दिया जा सकता है जिसकी पूरी सुविधा कंपनी मुहैया कराती है।