प्रॉपर्टी गुरुः प्रॉपर्टी की हर उलझनों पर पाएं हल -
Moneycontrol » समाचार » प्रॉपर्टी

प्रॉपर्टी गुरुः प्रॉपर्टी की हर उलझनों पर पाएं हल

प्रकाशित Wed, 12, 2017 पर 12:03  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

प्रॉपर्टी की सभी जरूरी जानकारी के साथ-साथ हम आपको देंगे, आपकी प्रॉपर्टी इन्वेस्टमेंट से जुड़े सवालों के जवाब। चाहे आप दिल्ली- मुंबई के रहने वाले हो या विशाखापट्टणम से हमारे प्रॉपर्टी एक्सपर्ट देश के हर प्रॉपर्टी मार्केट पर निवेश से जुड़ी हर बारिकियों पर डालेंगे नजर। आज आपके सवालों के जवाब देंगे जेएलएलके के नेशनल फर्म डायरेक्टर, मोहम्मद असलम।


सवालः टिटवाला में 2 बीएचके लेना है। 35-40 लाख में बेसिक सुविधाओं वाला और रेलवे स्टेशन के नजदीकी प्रोजेक्ट का सुझाव चाहिए।


मोहम्मद असलमः मुंबई के आसपास उभरते इलाकों में निवेश करना फायदेमंद होगा। क्योंकि सरकार का इन्फ्रास्ट्रक्चर बेहतर करने पर खास जोर रहा है। कल्याण- डोंबिवली के बाद शहाड टिटवाला की तरफ डेवलपमेंट तेज हो रहा है। टिटवाला में प्रॉपर्टी के लिए साकेत ग्रुप, रीजेंसी ग्रुप, कुबेर ग्रुप, चार्म्स ग्रुप जैसे डेवलपर्स है। हालांकि निवेश से पहले पूरी छानबीन जरुर कर लें।


सवालः गुरुग्राम के आसपास अफोर्डेबल प्रॉपर्टी प्रोजेक्ट देख रहा हूं। 20-30 लाख में 2-3 बीएचके फ्लैट लेना है। अच्छे विकल्प जानने हैं।


मोहम्मद असलमः गुरुग्राम का डेवलपमेंट काफी तेज से हो रहा है। यहां एम जी रोड, गोल्फकोर्स रोड के बाद एनएच-8 की तरफ प्रॉपर्टी की मांग बढ़ रही है। 30 लाख रुपये के बजट में शहर के बाहरी हिस्सों में निवेश के विकल्प भी मिल सकते है। गुरुग्राम में सेक्टर 92- जीएलएस इन्फ्राटेक, सेक्टर 112 - जारा रोसा, सेक्टर 95ए - सिग्नेचर ग्लोबल, रोजालिया के अफोर्डेबल प्रोजेक्ट है। लेकिन अफोर्डेबल प्रोजेक्ट में निवेश से पहले कानूनी जांच पड़ताल करें।


सवालः पुणे के पास तलेगांव, दाभाडे में 2 बीएचके लिया है। 2012 में 2950 के भाव पर इंद्रप्रस्थ नागरी प्रोजेक्ट में निवेश किया। सभी मॉडर्न सुविधाओं से लैस इस प्रॉपर्टी का एप्रिसिएशन रेट जानना है।


मोहम्मद असलमः पुणे और मुंबई के प्रॉपर्टी खरीदार सेकेंड होम के लिए तलेगांव को पसंद करते हैं और यह अफोर्डेबल हाउसिंग के लिए पसंदीदा डेस्टिनेशन है। इंद्रप्रस्थ नागरी प्रोजेक्ट बढ़िया प्रोजेक्ट है। यहां पर कई अफोर्डेबल हाउसिंग प्रोजेक्ट बन रहे हैं जिनका 3000-4000 का भाव  है। जिसके चलते किराया और एप्रिसिएशन सीमित है लेकिन आसानी से खरीदार मिलें तो निवेश से निकलें।