अब कहां लगाएं दांवः कुछ कंपनियों को लगा झटका, कुछ ने किया सरप्राइज

प्रकाशित Tue, 31, 2016 पर 12:59  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

मार्च तिमाही के नतीजों का समापन हो गया है। न सिर्फ बाजार के लिए बल्कि कंपनियों और निवेशकों के लिए ये तिमाही कई सारे सरप्राइजेज लेकर आई है। निफ्टी की कई कंपनियों ने शानदार प्रदर्शन से खुश किया है तो कुछ नतीजों से निराशा हाथ लगी है। सीएनबीसी-आवाज़ की इस खास पेशकश में हम आपको बताएंगे कि मार्च तिमाही में कॉरपोरेट इंडिया की सेहत कैसी रही।


बैंकिंग सेक्टर के नतीजों पर नजर डालें तो एसबीआई के नतीजों से निराशा हुई है। एसबीआई का मुनाफा 66 फीसदी घटा है, जबकि ग्रॉस एनपीए बढ़कर 6.5 फीसदी हो गया है। आईसीआईसीआई बैंक के नतीजों ने भी निराश किया है। आईसीआईसीआई बैंक का मुनाफा 76 फीसदी घटा है, जबकि ग्रॉस एनपीए बढ़कर 5.82 फीसदी हो गया है। एक्सिस बैंक के नतीजों ने भी निराश ही किया है। एक्सिस बैंक का मुनाफा 1.2 फीसदी घटा है, जबकि ग्रॉस एनपीए बढ़कर 1.67 फीसदी हो गया है।


हालांकि बैंकिंग सेक्टर में कुछ बैंकों ने अच्छे नतीजे पेश किए हैं। एचडीएफसी बैंक का मुनाफा 20 फीसदी बढ़ा है, जबकि ग्रॉस एनपीए 0.94 फीसदी रहा है। यस बैंक का मुनाफा 27 फीसदी बढ़ा है, जबकि ग्रॉस एनपीए 0.76 फीसदी रहा है। एचडीएफसी का मुनाफा 15 फीसदी बढ़ा है, जबकि ग्रॉस एनपीए 0.67 फीसदी रहा है। इंडसइंड बैंक का मुनाफा 25 फीसदी बढ़ा है, जबकि ग्रॉस एनपीए 0.87 फीसदी रहा है।


पावर सेक्टर की कंपनियों ने इस बार सरप्राइज किया है। एनटीपीसी का एबिटडा मार्जिन बढ़कर 30.1 फीसदी रहा है। टाटा पावर का एबिटडा मार्जिन बढ़कर 20.4 फीसदी रहा है। पावर ग्रिड का एबिटडा मार्जिन बढ़कर 88.4 फीसदी रहा है। फार्मा सेक्टर में मिलेजुले नतीजे देखने को मिले हैं। सन फार्मा के नतीजे उम्मीद के मुताबिक नहीं रहे हैं। ल्यूपिन ने अच्छे नतीजे पेश किए हैं और इसका मार्जिन 32.7 फीसदी रहा है। अरबिंदो फार्मा के नतीजे मिलेजुले रहे हैं और इसका मार्जिन 23.5 फीसदी रहा है। सिप्ला और डॉ रेड्डीज ने निराश किया है।


कैपिटल गुड्स सेक्टर से भी मिलेजुले नतीजे देखने को मिले हैं। एलएंडटी के नतीजे अच्छे रहे हैं और इसका मार्जिन 12 फीसदी रहा, लेकिन बीएचईएल ने निराश किया है और इसका मार्जिन 3.64 फीसदी रहा है। वहीं बॉश के नतीजे अच्छे रहे हैं और इसका मार्जिन 21.5 फीसदी रहा है। ऑटो सेक्टर की बात करें तो मारुति सुजुकी के नतीजे अच्छे रहे हैं और इसका मार्जिन 15.35 फीसदी रहा है। टाटा मोटर्स के नतीजे भी अच्छे रहे हैं और इसका मार्जिन 16.2 फीसदी रहा है। हीरो मोटोकॉर्प के नतीजे उम्मीद के मुताबिक ही रहे हैं और इसका मार्जिन 15.7 फीसदी रहा है। बजाज ऑटो ने भी अच्छे नतीजे पेश किए और इसका मार्जिन 21.3 फीसदी रहा है। एमएंडएम के नतीजे मिलेजुले रहे और इसका मार्जिन 9.7 फीसदी रहा है।


सीमेंट सेक्टर का प्रदर्शन दमदार रहा है। एसीसी के वॉल्यूम में 9 फीसदी की ग्रोथ रही और इसका मार्जिन 14.5 फीसदी रहा है। अंबुजा सीमेंट के वॉल्यूम में 9.5 फीसदी की ग्रोथ रही और इसका मार्जिन 18.4 फीसदी रहा है। अल्ट्राटेक सीमेंट के वॉल्यूम में 15 फीसदी की ग्रोथ रही और इसका मार्जिन 20.8 फीसदी रहा है। टेलीकॉम कंपनियों ने भी अच्छे नतीजे पेश किए हैं। भारती एयरटेल का वॉल्यूम ग्रोथ 6 फीसदी रहा और मार्जिन 36.8 फीसदी रहा है। आइडिया सेल्यूलर का वॉल्यूम ग्रोथ 1.2 फीसदी रहा और मार्जिन 38.13 फीसदी रहा है।


आईटी सेक्टर से थोड़ी निराशा जरूर हुई है। इंफोसिस के नतीजों ने निराश किया है। इंफोसिस की डॉलर आय 1.6 फीसदी बढ़ी है और वित्त वर्ष 2016 में कंपनी की ग्रोथ 9.1 फीसदी रही है। एचसीएल टेक के नतीजे अच्छे रहे हैं। एचसीएल टेक की डॉलर आय 1.3 फीसदी बढ़ी है और वित्त वर्ष 2016 में कंपनी की ग्रोथ 7.1 फीसदी रही है। विप्रो के नतीजों ने निराश किया है। विप्रो की डॉलर आय 2.4 फीसदी बढ़ी है, लेकिन वित्त वर्ष 2016 में कंपनी की ग्रोथ 3.7 फीसदी रही है। टेक महिंद्रा के नतीजे मिलेजुले रहे। टेक महिंद्रा की डॉलर आय 0.75 फीसदी बढ़ी है, लेकिन वित्त वर्ष 2016 में कंपनी की ग्रोथ 12.3 फीसदी रही है।


एफएमसीजी सेक्टर ने इस बार अच्छा प्रदर्शन दिखाया है। एचयूएल के नतीजे मिलेजुले रहे हैं। एचयूएल का एबिटडा 18.46 फीसदी रहा है, जबकि वॉल्यूम ग्रोथ 4 फीसदी रही है। एशियन पेंट्स ने अच्छे नतीजे पेश किए हैं। एशियन पेंट्स का एबिटडा 17.72 फीसदी रहा है, जबकि वॉल्यूम ग्रोथ 14 फीसदी रही है। आईटीसी का मार्जिन 36.26 फीसदी रहा है।


ऑयल एंड गैस सेक्टर का प्रदर्शन भी अच्छा रहा है। रिलायंस इंडस्ट्रीज का मार्जिन 21.5 फीसदी रहा है। बीपीसीएल का मार्जिन 7.9 फीसदी रहा है। गेल का मार्जिन 10.4 फीसदी रहा है। ओएनजीसी का मार्जिन 27.4 फीसदी रहा है। मेटल और माइनिंग सेक्टर में थोड़े मिलेजुले नतीजे देखने को मिले हैं। कोल इंडिया के नतीजे खराब रहे हैं। कोल इंडिया का मुनाफा सिर्फ 0.2 फीसदी ही बढ़ा है। हिंडाल्को ने बेहतर नतीजे पेश किए हैं। हिंडाल्को का मुनाफा 124 फीसदी बढ़ा है।


ऑटो एंसिलरी में अपोलो टायर्स के नतीजे उम्मीद के मुताबिक नहीं रहे हैं। अपोलो टायर्स का मार्जिन 15.9 फीसदी रहा है। हालांकि टीवीएस श्रीचक्र ने अच्छे नतीजे पेश किए हैं। टीवीएस श्रीचक्र का मार्जिन 14.5 फीसदी रहा है। अन्य निफ्टी कंपनियों में अदानी पोर्ट के नतीजे मिलेजुले रहे हैं। अदानी पोर्ट का मुनाफा 38 फीसदी बढ़ा है और मार्जिन 62.9 फीसदी रहा है। जी एंटरटेनमेंट के नतीजे उम्मीद से अच्छे रहे हैं। जी एंटरटेनमेंट का मुनाफा 12.9 फीसदी बढ़ा है और मार्जिन 27 फीसदी रहा है।


चौथी तिमाही के नतीजों के बाद अब जियोजित बीएनबी पारिबा के गौरांग शाह का कहना है कि एक्सिस बैंक और टाटा मोटर्स में निवेश किया जा सकता है। वहीं एचआरबीवी क्लाइंट सॉल्यूशंस के टी एस हरिहर के मुताबिक भारत फोर्ज में 3 महीनों के लिहाज से 900 रुपये के लक्ष्य के साथ निवेश किया जा सकता है। साथ ही कॉफी डे एंटरप्राइजेज में भी 3 महीनों के लिहाज से 300 रुपये के लक्ष्य के साथ निवेश किया जा सकता है।


वीडियो देखें