Moneycontrol » समाचार » स्टॉक व्यू खबरें

गिरावट की क्या रही वजह, कहां करें खरीदारी

प्रकाशित Thu, 03, 2017 पर 16:02  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बाजार में आज लगातार दूसरे दिन कमजोरी देखने को मिली। क्रेडिट पॉलिसी से मायूसी और खराब ग्लोबल संकेतों के चलते जमकर मुनाफावसूली देखने को मिली। आज सेंसेक्स करीब 240 अंक टूट गया। निफ्टी भी कारोबार के दौरान 10 हजार के नीचे फिसल गया हालांकि वो अंत में 10 हजार के ऊपर बंद होने में कामयाब रहा। सबसे बुरा हाल था बैंक शेयरों का। बैंक निफ्टी 400 प्वाइंट तक लुढ़क गया। मेटल शेयरों में भी जमकर बिकवाली दिखी। मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों की भी जमकर पिटाई हुई। इस कमजोर बाजार में ऑयल एंड गैस और टेलीकॉम शेयरों में ही कुछ खरीदारी देखने को मिली।

एनॉक वेचर्स के विजय चोपड़ा का कहना है कि बाजार में क्रेडिट पॉलिसी  को लेकर काफी कयास लगाएं गए। बाजार में एक तरफा तेजी के बाद हल्की मुनाफावसूली हावी होना संभव था। अगर बाजार मौजूदा स्तर से 9900 के स्तर को नहीं तोड़ता तो बाजार में अधिक गिरावट नहीं होगी। लिहाजा बाजार की गिरावट में खरीदारी करने की सलाह होगी।


पिछले 2 सालों से फार्मा सेक्टर की दिग्गज कंपनियां यूएस एफडीए की समस्या से जूझ रही है। जिसके कारण इन कंपनियों के तिमाही नतीजों के मार्जिन पर दबाव देखने को मिला है। जिसके चलते इस सेक्टर में गिरावट देखने को मिलरही है। अगर सरकार की जनेरिक दवा की योजना लागू होती है तो इस सेक्टर पर और भी दबाव बन सकता है। टाइटन के नतीजे काफी अच्छे आये है। इसमें लंबी अवधि का नजरिया रख 650 रुपये के लक्ष्य के लिए खरीदारी की जा सकती है।


आनंद राठी सिक्योरिटीज के जय ठक्कर का कहना है कि एनएलसी इंडिया में सरकार की हिस्सेदारी इस स्टॉक्स के लिए पॉजिटीव संकेत है। इसमें 90 रुपये के स्तर पर सपोर्ट बना हुआ है। लिहाजा मौजूदा निवेशकों को इसमें बने रहने की सलाह होगी।


रिस्क कैपिटल एडवाइजर्स के डी डी शर्मा का कहना है कि गैस, केरोसिन पर मिलने वाली सब्सिडी को खत्म करने का फायदा आईओसी, बीपीसीएल और एचपीसीएल के लिए फायदेमंद रहेगा। हालांकि मौजूदा स्तर से इन कंपनियों में अच्छा प्रदर्शन हो रहा है।


पावरमायवेल्थ डॉट कॉम के संदीप वागले का कहना है किकमिंस में नतीजों क बाद ऊपरी स्तर से बिकवाली हावी हुई है। इसमें निचले स्तर 150 रुपये के स्तर को होल्ड नहीं करेगा।