Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरु के साथ भरिए आईटी रिटर्न फॉर्म

प्रकाशित Thu, 08, 2017 पर 16:30  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की आखिरी तारिख यानी 31 जुलाई, वैसे तो अभी दूर है, लेकिन हमारा सुझाव है कि आप अपना आईटी रिटर्न जल्द से जल्द फाइल कर दें। क्योंकि अगर आप जितनी जल्दी रिफंड क्लेम करने जाएंगे रिटर्न भी उतनी ही जल्दी आने की संभावना बढ़ेगी। तो इसमें आपकी मदद करने के लिए हाजिर है टैक्स गुरु की खास पेशकश जिसमें हमारा साथ देंगे टैक्स एक्सपर्ट शरद कोहली।


टैक्स एक्सपर्ट शरद कोहली का कहना है कि जिसकी सालाना आय अधिकतम 50 लाख रुपये है और जिनके आय का स्त्रोत सैलरी या एक हाउस प्रॉपर्टी है वे आईटीआर 1 भर सकते है। वहीं अन्य स्त्रोत से आयवाले भी आईटीआर 1 भर सकते हैं। इनकम टैक्स विभाग की बेवसाइट पर लॉग इन करें और .xml फाइल को अपलोड करें। अपने रिटर्न को डीमैट एकाउंट, नेटबैंकिंग या आधार ओटीपी से वेरिफाई करें। फॉर्म वैलिडेड करने के बाद टैक्स कैलक्युलेट करें और .xml फाइल जनरेट करें।


incometaxindiaefiling.gov.in का होमपेज खुलते ही दांए ओर आईटीआर फॉर्म को डाउनलोड करने का बटन होगा, जैसे फॉर्म पर आप क्लिक करेंगे जीप फाइल खुल जाएगी और आईटीआर फॉर्म आपके सामने आ जाएगा। ये जो पेज खुलता है इसे जनरल इंर्फोमेशन पेज कहते है, यहां पर करदाता को सबसे पहले अपनी निजी जानकारी भरनी होती है। पार्ट ए में नाम, पैन, आधार वगैरह सही-सहीं भरना होता है। यदि आधार नंबर नहीं हो तो आप आधार एनरॉलमेंट नंबर दे सकते हैं।


शरद कोहली के मुताबिक करदाता एंप्लॉयर कैटेगरी में सही जानकारी दे और फॉर्म में बताएं कि रिटर्न ओरिजिनल है या रिवाइज्ड है। सैलरी इनकम और अन्य आय का ब्यौरा दें। हर कॉलम में लिखी बाते ध्यान से पढ़ें और इस तरह सारा डेटा सावधानी से भरें। 80टीटीए में बचत खाते का का ब्याज भरें। इनकम डिटेल्स के बाद आपको टीडीएस का ब्यौरा देना होगा। अपने एंप्लॉयर का टैन, नाम वगैरह सही-सही भरना होगा। जिस खाते में रिफंड मंगाना है, इसकी जानकारी दें। बैंक खाते की जानकारी भी देनी होती है।  


शरद कोहली का कहना है कि जिनके पास एक से ज्यादा प्रॉपर्टी है और जिनकी आय का स्त्रोत कैपिटल गेन है, ऐसे करदाताओं को आईटीआर 2 भरना होता है। आईटीआर 1 और आईटीआर 2 में ज्यादा जानकारी देनी पड़ती है। आईटीआर 2 में हाउस प्रॉपर्टी का पूरा ब्यौरा देना होता है। एक से ज्यादा प्रॉपर्टी की पूरी डिटेल्स देनी जरुरी है। इस फॉर्म में आपको घर का पता, प्रॉपर्टी की कीमत बतानी होती है।