टैक्स से जुड़ी हर बारीकियों का पाएं हल -
Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स से जुड़ी हर बारीकियों का पाएं हल

प्रकाशित Fri, 20, 2016 पर 11:33  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स एक ऐसा शब्द है जिसे सुनते ही आम आदमी ही नहीं जानकार भी धबराने लगते हैं। कारण है कि आयकर कानूनों में इतने सारे पेंच है कि किसी के लिए भी इन्हें समझना टेढ़ी खीर साबित हो सकती है। ऐसे ही मौकों पर टैक्स गुरू अपनी जानकारी और अनुभव का खजाना लेकर आते हैं और करते हैं टैक्स से जुड़ी मुश्किलों को दूर। आज आपके टैक्स से जुड़े मुश्किल सवालों का जवाब देंगे सक्षम वेंचर्स के फाउंडर अमिताभ सिंह


सवाल: आज कल शेयरों मे खरीद-बिक्री करने वालों की तादादद बढ़ गई है और ऐसे में शेयर ट्रेडिंग से होने वाली आय को कब बिजनेस इनकम माना जाता है, और अगर इसे हमें अपने इनकम टैक्स रिटर्न में दिखाना है तो हमें किस तरह के पेपर वर्क करने होते हैं, इसके लिए किस तरह के खाते होने चाहिए? 


अमिताभ सिंह: अगर आप शेयर ट्रेडिंग कर रहे हैं तो आपको तीन तरह की इनकम हो सकती है। पहला है स्पेकुलेटिव इनकम, दूसरा है बिजनेस इनकम और तीसरा है कैपिटल गेन्स। स्पेकुलेटिव इनकम शेयरों की डिलिवरी लिए बिना सौद करने से हुई इनकम को कहते हैं। इसमें इंट्रा डे शेयर ट्रेडिंग से होने वाली इनकम शामिल होती है। स्पेक्युलेटिव लॉस को किसी दूसरी इनकम से घटा नहीं सकते।


शेयरों को स्टॉक-इन-ट्रेड की तरह दिखाए जाने पर होने वाली इनकम को बिजनेस इनकम कहा जाता है। इसमें शेयर खरीद-फरोख्त की साइज और ट्रेड की फ्रिक्वेंसी मायने रखती है। एक बात ध्यान में रखें कि 12 महीने से ज्यादा समय तक लिस्टेड शेयर रखने पर होने वाली आय कैपिटल गेंस मानी जाती है।


सवाल: मेरी मां की हाल ही में देहांत हो गया है। उनके डीमैट एकाउंट में कुछ इक्विटी शेयर और टैक्स फ्री बॉन्ड थे जिनको हमने अपने पारिवार के सदस्यों में बांट दिए। हम लोग जब इन शेयरों और बॉन्ड् को अपने एकाउंट में लेंगे तो कौन से प्राइस पे इनको लेना चाहिए? अगर आगे चलके हम इनको बेचते हैं तो इनपे कैपिटल गेंस का कैल्कुलेशन कैसे होगा? िन पर किस तरह के टैक्स देने होंगे?


अमिताभ सिंह: कैपिटल गेंस के लिए खरीद की वास्तविक कीमत आधार होगी। आपको बता दें कि वसीयत या उत्तराधिकार में मिले शेयर/बॉन्ड पर टैक्स नहीं लगेगा। शेयर/बॉन्ड की वास्तविक कीमत पर इंडेक्सेशन के आधार पर पर ही इनकी मौजूदा कीमत आंकी जाएगी। इन शेयर/बॉन्ड को बेचने पर कैपिटल गेंस निकालने के बाद उपयुक्त टैक्स देना संभव होगा।


वीडियो देखें