टैक्स गुरुः फॉर्म 16 के बिना कैसे भरें रिटर्न -
Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरुः फॉर्म 16 के बिना कैसे भरें रिटर्न

प्रकाशित Thu, 15, 2017 पर 16:49  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

हम एक बार फिर हाजिर है टैक्स को लेकर आपकी उलझन दूर करने के लिए, चाहे वो टैक्स बचाने के टिप्स हो या फिर रिटर्न भरने से जुड़े सवाल। हमारे टैक्स एक्सपर्ट प्रीति खुराना लेकर आए है आपकी हर समस्या का समाधान, तो चलिए लेते हैं आपके टैक्स से जुड़े तमाम सवाल।


इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की आखिरी तारिख यानी 31 जुलाई, वैसे तो अभी दूर है, लेकिन हमारा सुझाव है कि आप अपना आईटी रिटर्न जल्द से जल्द फाइल कर दें। क्योंकि अगर आप जितनी जल्दी रिफंड क्लेम करने जाएंगे रिटर्न भी उतनी ही जल्दी आने की संभावना बढ़ेगी।


टैक्स एक्सपर्ट प्रीति खुराना का कहना है कि फॉर्म 16 के बिना भी रिटर्न भरने की भी संभावनाएं है उसके लिए टैक्सपेयर्स को सैलरी स्लिप, बैंक स्टेटमेंट, फॉर्म 26 एएस, सीटीसी डॉक्यूमेंट की जरुरत होती है। आईटी विभाग वेबसाइट से फॉर्म 26 एएस डाइनलोड करें। फॉर्म 26एएस में कटे हुए टीडीएस का ब्यौरा होता है। रिइंबर्समेंट आपकी सैलरी में नहीं जोड़ा जाता है। अगर कोई बोनस मिला हो तो उसे अपनी इमकम में जोड़ें।


सवालः फिक्स्ड मैच्योरिटी प्लान में निवेश कर रखा है जिससे लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन हुआ है, इसे आईटीआर-2 के शेड्यूल सीजी के किस कॉलम में दिखाना होगा?


प्रीति खुराना: एफएमपी यानि फिक्स्ड मैच्योरिटी प्लान। एफएमपी डेट म्युचुअल फंड की कैटेगरी में आते हैं। डेट फंड 3 साल बाद बेचने पर एलटीसीजी का फायदा हुआ है। एफएमपी पर एलटीसीजी की गणना कर लीजिए। एलटीसीजी को पार्ट बी के कॉलम 7 में दिखाना होगा। 


सवालः बैंक के फॉर्म 15एच जमा करने के बावजूद एफडी के रिटर्न पर टैक्स दो बार कट गया, पहली बार कटे टैक्स का ब्यौरा तो फॉर्म 26 एएस में है, लेकिन दूसरी बार कटे टैक्स का नहीं, टैक्स रिफंड कैसे मिलेगा?


प्रीति खुराना: टीडीएस का रिफंड आपको इनकम टैक्स विभाग से मिलेगा। बैंक ने कितना टीडीएस काटा है वह रिटर्न में दिखाएं। बैंक से पता करें कि क्या उससे कोई चूक हुई है। बैंक से आग्रह करें कि वो टीडीएस रिटर्न की जांच करें। टीडीएस रिफंड के लिए उसका फॉर्म 26 एएस में दिखाना जरुरी है।