Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरुः सुलझाएं पीएफ, मेडिकल से जुड़ी उलझन

प्रकाशित Thu, 05, 2016 पर 15:27  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कौन-सा टैक्स भरना है, कहां मिलेगी कितनी छूट और क्या टैक्स भरने में कई कोई गलती तो नहीं हो रही है। और अगर कोई गलती हो रही है तो उसे सुधार कर टैक्स को आसान बनाएंगे टैक्स एक्सपर्ट बलवंत जैन।


पीएफ पर उलझन :-

पीएफ से पैसे निकालने के लिए फरवरी का नोटिफिकेशन रद्द हुआ है। पैसे निकासी के लिए पुरानी स्थिति बहाल की गई है। जरुरत पड़ने पर कर्मचारी अपना और एंप्लॉयर दोनों का अंशदान निकाल सकता है। 5 साल से कम नौकरी करने पर ईपीएफ खाते से निकासी पर टैक्स लगेगा।


पीएफ से 50,000 रु से ज्यादा निकालने पर 10 फीसदी टीडीएस लगेगा। पैन नहीं देने पर पीएफ से निकासी पर 30 फीसदी टीडीएस लग सकता है। बेहतर होगा कि पीएफ के बैलेंस को मौजूदा खाते में ट्रांसफर करें।


मेडिकल पॉलिसी की अहमियत :-

सीजीएचएस में स्वास्थ केंद्र और पोलीक्लीनिक के जरिए मेडिकल सर्विस मिलती है। सीजीएचएस में बड़ी सर्जरी और अस्पलात में इलाज शामिल नहीं होता है। इसलिए उचित तरह का हेल्थ इंश्योरेंस लेना बेहतर होगा।


प्रिवेंटिव मेडिकल टेस्ट :-

सेक्शल 80डी में प्रिवेंटिव मेडिकल टेस्ट पर 5,000 रु तक की टैक्स छूट मिल सकती है। इस तरह की छूट का फायदा उठाने के लिए अपने एंप्लॉयर को मेडिकल टेस्ट का बिल दे सकते हैं। अगर सेल्फ एंप्लॉयड हैं तो टैक्स रिटर्न भरते बक्त सेक्शन 80डी में क्लेम कर सकते हैं।
    
वीडियो देखें