Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरुः सुलझाएं टैक्स से जुड़ी तमाम उलझनें

प्रकाशित Sat, 09, 2016 पर 16:16  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आइए लेते हैं टैक्स से जुड़े आपके तमाम सवाल जिनके जबाब देंगे टैक्स एक्सपर्ट बलवंत जैन।  


सालाना इनकम 50 लाख से ज्यादा हैं तो किन बातों का रखें ध्यान

एन्युएल ईयर 2016-17 में आईटी के साथ अपनी जायदाद भी बतानी होगी। 50 लाख रु से ज्यादा इनकम वालों पर ये नियम लागू होगा और ये रिटर्न फॉर्म में जोड़ा गया शेड्यूल एएल में है। शेड्यूल एएल में 2 कैटेगरीज है, एक एसेट और दूसरी लायबिलिटीज। एसेट में टैक्सपेयर्स को चल-अचल दोनों संपत्ती बतानी होगी। अचल संपत्ति में जमीन और घर की कीमत बतानी होगी। चल संपत्ति में नगदी, गाडी, गहनों का ब्यौरा देना होगा।  


पीपीएफ, ईपीएफ से निकासी के नियम

पीपीएफ खाते से पैसे निकालने पर कोई टैक्स नहीं लगेगा। लेकिन आप आपने पीपीएफ खाते से पूरे पैसे नहीं निकाल सकते हैं। आप साल में एक बार ही पैसे निकल सकते हैं। पीपीएफ खाताधारक पत्नी एकाउंट के एक्सटेंशन के पहले की 60 फीसदी रकम निकाल सकती है।


5 साल के पहले ईपीएफ खाते से पैसे निकालने पर टैक्स देना पड़ता है। सिर्फ खास परिस्थितियों में ही पैसे निकालने पर टैक्स छूट मिलती है। 3000 रु से ज्यादा रकम जमा होने पर 10 फीसदी टैक्स काटकर दी जाएगी। 30 अप्रैल के बाद सिर्फ अपना हिस्सा ही निकाल सकते हैं। बाकी रकम 59 साल की उम्र के बाद ही निकालना मुमकिन है। 


बैंक ब्याज और टीडीएस

पत्नि के नाम की एफडी पर मिलने वाला ब्याज पति के खाते में जुड़ता है। आपकी पत्नी बैंक में फॉर्म 15 एच नहीं जमा कर सकती है। रिटर्न फाइल करते समय ध्यान रहें कि आप अपनी पत्नी का पैन जरुर दिखाएं। बेहतर होगा कि बैंक में एफडी पत्नी की बजाय अपने नाम पर करें।  


वीडियो देखें