Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरु: बजट से क्या हैं टैक्सपेयर्स की उम्मीदें

प्रकाशित Sat, 06, 2016 पर 18:08  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

29 फरवरी को जब वित्त मंत्री अरुण जेटली अपना बजट का पिटारा खोलेंगे तो क्या लेकर आएंगे टैक्सपेयर्स के लिए, क्या टैक्सपेयर्स को खुश करेंगे, टैक्स का बोझ कम करेंगे इन्ही तमाम सवालों पर लेंगे एक्सपर्टस की राय।


टैक्स गुरु सुभाष लखोटिया की राय

वित्त मंत्री टैक्स कम करे या नहीं, लेकिन टैक्स के नियम जरुर आसान बनाए और बजट में सेक्शन 80सी के सभी इंस्ट्रुमेंट्स के लिए ई-ई-ई नियम लागू हों। फिलहाल सिर्फ 3 चीजों के लिए ई-ई-ई नियम लागू हैं। पीपीएफ, जीवन बीमा प्रीमियम और ईएलएसएस के लिए ई-ई-ई के नियम लागू है। टीडीएस की दर 10 फीसदी की बजाय 5 फीसदी की जानी चाहिए। टीडीएस रिफंड हफ्तेभर के अंदर देने की शुरुआत होनी चाहिए। आईटी रिटर्न जमा होने के हफ्तेभर में ही टैक्स रिटर्न का प्रावधान होना चाहिए। एलटीए के दायरे में विदेशी यात्राएं भी शामिल होनी चाहिए। एलटीए के फायदे के लिए सिर्फ देश में घूमने-फिरने की शर्त में बदलाव जरुर करना चाहिए। सरकार विदेशी यात्रा के लिए एलटीए छूट की सीमा तय कर सकती है।     


सक्षम वेंचर्स के फाउंडर अमिताभ सिंग की राय


लोगों को टीडीएस के मामले में राहत देनी चाहिए। टीडीएस का क्रेडिट सही तरीके से नहीं हो पा रहा है। लोगों के लिए टीडीएस की प्रक्रिया आसान होनी चाहिए। टीडीएस स्टेटमेंट में सुधार का अधिकार टैक्सपेयर्स को मिलना चाहिए। वित्त मंत्री को टीडीएस स्टेटमेंट में ऑनलाइन सुधार करने की दिशा में सोचना चाहिए। टैक्सपेयर्स की शिकायतों का स्टेटस ऑनलाइन देख सके इसकी व्यवस्था होनी चाहिए।  


वीडियो देखें