Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरुः बजट से क्या हैं टैक्सपेयर्स की उम्मीदें

प्रकाशित Sat, 21, 2017 पर 15:57  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बजट का ऐलान होने में कम से भी कम 2 हफ्ते का वक्त रह गया है और हर टैक्सपेयर्स की उम्मीदें हर बार की तरह वित्त मंत्री पर टिकी हुई है। टैक्स का बोझ घटाने के लिए कितने कदम उठाए जाते है, ये तो बजट से ही पता चलेगा।


हम आम बजट से क्या चाहते है, इस पर आज हम फोकस करेंगे और साथ ही टैक्स एक्सपर्ट से जानेंगे कि वित्तमंत्री टैक्स के मोर्चे पर किस तरह के बदलाव ला सकते है। क्या बजट से आपको मिल सकता है बेहतरीन तोहफा, आइए जानते हैं सक्षम वेंचर्स के अमिताभ सिंह और टैक्स प्लानर के सुधीर कौशिश से।        


टैक्स प्लानर के सुधीर कौशिश का कहना है कि बजट में नई टैक्स रियायतें सीमित होंगी। क्योंकि सरकार को विकास योजनाओं के लिए पैसे की जरुरत है। सरकार को टैक्स बेस बढ़ाने की जरुरत है। टैक्सपेयर्स की तादाद बढ़ाने की कोशिशें सरकार कर रही है। सरकार बजट में रिबेट बढ़ाने का फैसला ले सकती है। बजट में सेक्शन 87ए के तहत मिलने वाली छूट का दायरा बढ़ना चाहिए। 


सुधीर कौशिश के मुताबिक 80सी में 1.5 लाख रुपये की लिमिट बढ़ाई जानी चाहिए। ताकि लोग ज्यादा निवेश करने के लिए प्रोत्साहित होंगे। बजट में कंवेयंस अलाउंस बढ़ने की उम्मीद कम है।


सक्षम वेंचर्स के अमिताभ सिंह का कहना है कि नोटबंदी में जनता ने सरकार का साथ दिया है। अब लोगों को सरकार से रिटर्न गिफ्ट की उम्मीद है। बजट में एक्जेंप्शन लिमिट को 2.5 लाख से बढ़ाकर 3 लाख रुपये किया जाएं। सरकार लिमिट नहीं बढ़ा सकती तो कम से कम रिबेट ज्यादा दें। बजट में कम आय वर्ग के लोगों को फायदा देने की कोशिश कि जाएं ऐसी उम्मीद है।


अमिताभ सिंह के मुताबिक टैक्स स्लैब में बदलाव का फायदा ज्यादा आय वाले लोगों को मिल सकता है। ब्याज दरें कम हो रही है और निवेश पर रिटर्न भी कम मिल रहा है। 80 सी की लिमिट बढ़ाकर कम से कम 2 लाख कि जाएं।