Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरुः क्या है एचआरए क्लेम का सही तरीका

प्रकाशित Wed, 15, 2017 पर 18:17  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

कैसे बचायें ज्यादा से ज्यादा टैक्स और कैसे होगी टैक्स की देनदारी। जानिए सही क्लेम औऱ डिडक्शन। टैक्स गुरु में हम करेंगे आपकी मदद। लेकिन उससे पहले टैक्स गुरु में आज हमारा फोकस है एचआरए क्लेम करते वक्त कहां रहना है आपको सावधान और ग्रैच्युटी पेमेंट के नियमों में बदलाव से किसे होगा इसका फायदा। टैक्स की बारिकियों को समझाने के लिए जुड़े हैं टैक्स एक्सपर्ट शरद कोहली। 


शरद कोहली का कहना है कि मकान मालिक आपका रिश्तेदार है तो क्लबिंग प्रावधान का ध्यान रखें। अगर मकान मालिक रिश्तेदार है तो क्लबिंग ऑफ इनकम हो सकती है। लेकिन पति- पत्नी आपस में मालिक और किराएदार नहीं हो सकते हैं। इसलिए जिस मकान के लिए किराए की रसीद ली, वो किश्तेदार के पैसे का हो इस बात का ध्यान दें।


ग्रैच्युटी नियम पर बदलाव को लेकर शरद कोहली का कहना है कि सरकारी कर्मचारिय़ों की ग्रैच्युटी की रकम टैक्स फ्री है। गैर सरकारी कर्मचारिय़ों को इससे बड़ी राहत मिलेगी। पहल 10 लाख रुपये तक की ही ग्रैच्युटी टैक्स फ्री थी लेकिन अब सरकार टैक्स फ्री ग्रैच्युटी की रकम में बढ़ोतरी कर 10 लाख रुपये से 20 लाख रुपये की जा सकती हैं। जनवरी 2016 से ग्रैच्युटी की लिमिट बढ़ी हुई मानी जाएगी।
 
सवालः 2013 तक भारत में थे और हर साल टैक्स रिटर्न भरते थे। अब 2014 में ओमान में है और यहां इनको टैक्स नहीं देना होता। 2014 से भारत में भी इनकम टैक्स भरना बंद कर दिया है। क्या ये सहीं फैसला था?


शरद कोहलीः एनआरआई पर भारत के टैक्स प्रावधान नहीं लगते हैं। एनआरआई को टैक्स रिटर्न भरने की जरुरत नहीं हैं। अगर भारत में किसी तरह की आमदनी हो रही है तो रिटर्न भरें।


सवालः पत्नी के नाम करीब 15 लाख रुपये सीनियर सिटीजन स्कीम में निेवेश किया हैं। क्या इसपर मिलनेवाले ब्याज पर टैक्स देना होगा या पत्नी को टैक्स देना होगा?


शरद कोहलीः सीनियर सिटिजन स्कीम से मिलनेवाला ब्याज पति की आमदनी मानी जाएगी और इसे क्लबिंग ऑफ इनकम के तहत टैक्स देना होगा। स्कीम के ब्याज से ही आमदनी पर टैक्स सतेंद्र जी की पत्नी को देना होगा।


सवालः पिता ने इनके नाम पर 2001 में एक पीपीएफ अकाउंट खोला था और 2008 में पढ़ाई के लिए अमेरिका जाना पड़ा। लेकिन पीपीएफ अकाउंट एक्टिव रहा अब 15 साल बाद सुहास इसको बंद करना चाहते हैं। पीपीएफ अकाउंट से हुई आमदनी क्या एनआरओ अकाउंट में जमा करा सकते है और इस पर एनआरआईको टैक्स देना होता है।


शरद कोहलीः  पीपीएफ की रकम एनआरओ अकाउंट में जमा करा सकते हैं। पीपीएफ की रकम पर टैक्स नहीं लगता है।