Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरुः बढ़ी टैक्स फ्री ग्रैच्युटी की लिमिट, कितना फायदा!

प्रकाशित Sat, 07, 2018 पर 15:09  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

टैक्स एक ऐसा शब्द है जिसे सुनते ही आम आदमी ही नहीं जानकार भी घबराने लगते हैं। कारण है कि आयकर कानूनों में इतने सारे पेंच है कि किसी के लिए भी इन्हें समझना टेढ़ी खीर साबित हो सकती है। इनकम टैक्स भरने का समय करीब आ रहा है जरुरी है कि आप इनसे जुड़े नियमों में बदलाव को जाने और समझें। ऐसे ही मौकों पर टैक्स गुरू अपनी जानकारी और अनुभव का खजाना लेकर आते हैं और करते हैं टैक्स से जुड़ी मुश्किलों को दूर। आज आपके टैक्स से जुड़े मुश्किल सवालों का जवाब देंगे टैक्स एक्सपर्ट मुकेश पटेल की सलाह।


प्राइवेट सेक्टर में नौकरीकरने वाला के लिए खुशखबरी देते हुए ग्रैच्युटी की रकम बढ़ाई गई है जिसपर बात करते हुए मुकेश पटेल का कहना है कि सेक्शन 10(10) के तहत ग्रेच्युटी में छूट मिलती है। ज्यादातर नौकरीपेशा लोगों को इसका फायदा मिलता है। 7वें वेतन आयोग की सिफारिशों के लागू होने के बाद इसका फायदा मिला है। सरकारी कर्मचारिय़ों के लिए पहले ही टैक्स फ्री ग्रेच्युटी बढ़ी है। बजट सत्र के दौरान दोनों सदनों में बिल पास हुआ। 29 मार्च 2018 को सरकार ने बिल को नोटिफाई किया था। नोटिफिकेशन में पेमेंट ऑफ ग्रेच्युटी एक्ट में संशोधन हुआ। प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारियो को फायदा होगा।


मुकेश पटेल ने आगे कहा कि निजी क्षेत्र में टैक्स फ्री ग्रैच्युटी की सीमा को दोगुना कर 20 लाख रुपये किया गया है। बेसिक सैलकी + डीए जितने साल नौकरी की हो 15/26, 6 महीने से ऊपर के समय को 1 साल के बराबर माना जाता है।


सवालः सरकारी कर्मचारी हैं और डिस्टेंस एजुकेशन के जरिए एमबीए कर रहे हैं, 25000 रुपये सिमेस्टर फीस का भुगतान कर दिया है। वित्त वर्ष 2017-2018 में टैक्स छूट क्लेम कर सकते है?


मुकेश पटेल: सेक्शऩ 80सी में इस सवाल संबंधित पूरी जानकारी है। सरकारी- प्राइवेट इंस्टीट्यूशन को दी गई फीस पर छूट मिलती है।  डिस्टेंस कोर्स के लिए दी गई ट्यूशन फीस पर फायदा संभव है। सिर्फ ट्यूशन फीस पर ही टैक्स में छूट मिलेगा।