Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » टैक्स

टैक्स गुरु की सलाह, दिखाएगी टैक्स बचाने की राह

प्रकाशित Sat, 06, 2017 पर 18:08  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

दूर कीजिए टैक्स रिटर्न से जुड़ी किसी भी उलझन को अपने पर्सनल टैक्स गाइड टैक्स गुरु के साथ और आज इस काम में आपकी मदद करेंगी क्लियरटैक्स डॉट इन की प्रीति खुराना


एचआरए क्लेम करते वक्त किन बातों का रखें ध्यान
किराए पर रहते हों तो रेंट एग्रीमेंट जरुर बनवाए और इस एग्रीमेंट में घर के पते समेत सारी डिटेल्स होनी चाहिए। रेंट चुकाने का सबूत होना चाहिए और साथ ही रेंट रसीद भी आपके पास होनी चाहिए। इस बात का सबूत भी हो कि आप इसी घर में रहते है जिसके लिए एचआरए क्लेम कर रहे हों। 


कैसे ट्रांसफर होता है पीएफ
नौकरी बदलते वक्त पुराने यूएएन को नए एंप्लॉयर को बताना जरूरी है।  अगल नया यूएएन बन गया हो तो पुराने यूएएन को डिएक्टिवेट कराएं। पुराने यूएएन वाले खाते से नए में पैसे ट्रांसफर करा लें। ईपीएस की रकम ट्रांसफर नहीं होती है। एंप्लॉयर के कंट्रीब्यूशन का 8.33 फीसदी आपीएस में जाता है। नए एंप्लॉयर को ईपीएस के स्टेटस की जानकारी जरुर दें। 


क्या जरुरी है मृत व्यक्ति की रिटर्न फाइलिंग
मृत पत्नी का रिटर्न फाइल करने के लिए आप खुद को कानूनी वारिस के तौर पर रजिस्टर्ड कराएं। आपको अपनी पत्नी के मृत्यु प्रमाणपत्र की भी जरुरत पड सकती है। 29 नवंबर 2016 तक की इनकम आपकी पत्नी की होगी। 29 नवंबर 2016 के बाद की इनकम आपकी मानी जाएगी। रिफंड के लिए इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करना होगा।


पुर्तगाल कानून और टैक्स रिटर्न
इनकम टैक्स के मकसद से गोवा, दमन-दीव और दादरा-नगर हवेली के निवासियों पर पुर्तगाल कानून लागू किया गया है। सैलरी के आलावा सारी इनकम पति और पत्नी दोनों में बराबर बांटी जाती है। इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 5ए में ये नियम आते हैं। ग्रेच्युटी, पीएफ में मिली रकम सिर्फ आपकी इनकम होगी। आप आईटीआर 1 में रिटर्न फाइल कर सकते हैं।