Facebook Pixel Code = /home/moneycontrol/commonstore/commonfiles/header_tag_manager.php
Moneycontrol » समाचार » टैक्स

योर मनीः टैक्स छूट के लिए निवेश प्लान

प्रकाशित Sat, 28, 2017 पर 14:03  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

योर मनी फोकस कर रहा है आपके 80सी निवेश पर। जिसमें आपको बताएंगे की इस पूरे निवेश में आपके लिए फायदें का निवेश कौन सा है। साथ ही जानेगें कि टैक्स बचाने के लिए निवेश के कौन से विकल्प बेहतर होते है औऱ सीनियर सिटीजन के लिए निवेश के कहां है विकल्प। इन सभी तमाम मुद्दों पर चर्ता करने के लिए हमारे साथ है आनंद राठी वेल्थ मैनेजमेंट डिप्टी सीईओ फिरोज अजीज।


फिरोज अजीज का कहना है कि 80सी के तहत अधिकतम टैक्स छूट 1,50,000 लाख रुपये मिलती है। 80सी में निवेश के कई विकल्प है। जिसमें लाइफ इंश्योरेंस प्रीमियम, नॉन कम्युटेबल डेफेर्ड एन्युटी, पीपीएफ, रिटायरमेंट फंड, सुकुन्या समृद्धि योजना, नोटिफाइड एन्युटी प्लान, यूलिप, म्युचुअल फंड, यूटीआई यूनिट, होम लोन अकाउंट स्कीम, हाउसिंग बोर्ड की स्कीम, इंफ्रा इक्विटी और बॉन्ड, ट्यूशन फीस, होम लोन अकाउंट स्कीम , सीनियर सिटिजन स्कीम, होम लोन प्रिंसिपल जैसे कई विकल्पों में निवेश कर सकते है।


फिरोज अजीज के मुताबिक ईएलएसएस में निवेश टैक्स छूट के लिए अच्छा विकल्प है।  ईएलएसएस में लिक्विडिटी और पारदर्शिता होती है।  पिछले 3 साल में ईएलएसएस के रिटर्न 17.8 फीसदी है और लॉक इन पीरियड मिलता है। हालांकि इसमें सबसे कम लॉक इन पीरियड होते है। ईएलएसएस में निवेश के लिए एक्सिस लॉन्ग टर्म इक्विटी और फ्रैंकलिन टैक्स शील्ड फंड चुन सकते है।


पीपीएफ में  7 साल का लॉक इन पीरियड होता है और पीपीएफ के ब्याज पर टैक्स छूट मिलती है। ईपीएफ में निवेश के बाद सरप्लस पैसा पीपीएफ में डालें। वहीं सीनियर सिटिजन के लिए भी ईएलएसएस और सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम में निवेश करें।