Moneycontrol » समाचार » टैक्स

योर मनीः टैक्स छूट के लिए कहां करें निवेश

प्रकाशित Fri, 24, 2017 पर 17:01  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

योर मनी में आज फम आपकी टैक्स सेविंग की प्लानिंग करेंगे। 31 मार्च बस कुछ ही दिन दूर है और ऐसे में अगर आपने अभी तक टैक्स बचाने के लिए कोई इंवेस्टमेंट प्रूफ जमा नहीं किए है तो कोई फिक्र की बात नहीं है, योर मनी आपको बताएगा कि आपके लिए कौन सा है सही निवेश, जिसके लिए आपको अच्छे रिटर्न भी मिले और साथ ही आपके टैक्स की बचत भी होगी। इसमें हमारी मदद करेंगे फाइनेंशियल प्लानर गौरव मशरूवाला


टैक्स छूट के निवेश विकल्प
80सी के तहत अधिकतम टैक्स छूट 1,50,000 रुपये तक मिल सकती है। 80सी में निवेश के काफी विकल्प है। 80सी के तहत निवेशक लाइफ इंश्योरेंस प्रीमियम, नॉन कम्युटेबल डेफेर्ड एन्युटी, पीपीएफ, रिटायरमेंट फंड, एनएससी, सुकुन्या समृद्धि योजना में निवेश कर सकते हैं। इसके अलावा यूलिफ, नोटिफाइड एन्युटी प्लान, म्युचुअल फंड, यूटीआई यूनिट, पेंशन फंड में भी निवेश से 80सी का फायदा ले सकते हैं।


होम लोन अकाउंट स्कीम, हाउसिंग बोर्ड की स्कीम, होम लोन प्रिंसिपल, ट्यूशन फीस, इंफ्रा इक्विटी और बॉन्ड, 5 साल का फिक्स डिपॉजिट, नाबार्ड के बॉन्ड, सीनियर सिटिजन स्कीम, पोस्ट ऑफिस की 5 साल की एफडी में भी निवेश से आप 80 सी के तहत टैक्स छूट का फायदा उठा सकते हैं।
 
80सी के अलावा 80डी के तहत मेडिकल इंश्योरेंस, अपंगता के इलाज खर्च पर, एनपीएस में 80सीसीडी के तहत, एजुकेशन लोन के ब्याज पर 80ई के तहत, चैरिटेबल संस्थाओं को दिए दान पर 80जी के तहत, घर के किराए पर 80जीजी के तहत और लेखकों को मिलने वाली रॉयल्टी पर 80-क्यूक्यूबी के तहत टैक्स छूट पा सकते हैं।


पीपीएफ, ईएलएसएस में निवेश
पीपीएफ में 7 साल का लॉक इन पीरियड होता है। पीपीएफ के ब्याज पर टैक्स छूट मिलती है। ईपीएफ में निवेश के बाद सरप्लस पैसा पीपीएफ में डाल सकते हैं। जरुरत पड़ने पीपीएफ से पैसा भी निकाल सकते हैं। टैक्स छूट के लिए ईएलएसएस भी सबसे अच्छा विकल्प है। ईएलएसएस में लिक्विडिटी और पारदर्शिता होती है। पिछले 3 साल में ईएलएसएस के रिटर्न 17.8 फीसदी रहे हैं। ईएलएसएस में 3 साल का लॉक इन पीरियड होता है। इसमें सबसे कम लॉक इन पीरियड है।