Moneycontrol » समाचार » निवेश

योर मनी: महिलाएं कैसे सीखें निवेश के गुर

महिलाओं के पास बड़ी जिम्मेदारी होती है घर के साथ-साथ पैसे को भी संभालने की।
अपडेटेड Jun 26, 2014 पर 14:55  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

महिलाओं के लिए कुछ भी करना नामुमकिन नहीं है। घर हो या दफ्तर, पूरी शिदिदत से महिलाएं सारी जिम्मेदारियां निभाती हैं। लेकिन यहीं होम मैनेजर्स जब पर्सेनल फाइनेंस की बात आती है, तो जरा पीछे रह जाती हैं। महिलाओं को घर का मैनेजर कहा जाता है। घरेलू कामकाज संभालने के अलावा उनके पास एक और बड़ी जिम्मेदारी होती है घर के साथ-साथ पैसे को भी संभालने की।


महिलाएं बखूबी पैसे को तो संभाल लेती हैं, लेकिन इसे कहां लगाना है, कहां निवेश करना है, यानि पर्सनल फाइनेंस से जुड़ी जानकारी महिलाओं को कम होती है। जैसे इन्हें आज भी सोने में निवेश ही सबसे ज्यादा सुरक्षित लगता है। महिलाएं इसलिए भी खुलकर निवेश नहीं कर पाती, क्योंकि वो चुपचाप छोटी-छोटी रकम से सीक्रेट सेविंग करती रहती हैं।


वहीं चाहे महिलाएं कामकाजी हो या फिर हाउजवाइफ, ये छोटे-बड़े वित्तीय लक्ष्य को बनाने में भी कतराती हैं, जैसे बच्चों की पढ़ाई के लिए पैसे जोड़ने हैं, या फिर प्रॉपर्टी खरीदना है, ज्यादातर महिलाएं इसके लिए अपने पिता, पति या फिर अपने बच्चों पर निर्भर करती हैं। देखें तो महिलाएं बचत करने में तो माहिर होती हैं, लेकिन इस बचत को कहां लगाना है, इस पर कैसे अच्छा रिटर्न कमाना है, इसकी जानकारी इनमें कम होती है।


महिलाओं को निवेश करना सीखने के लिए सबसे पहले बचत खाते में लेन-देन शुरू करें। खर्चों के हिसाब-किताब में हिस्सा लें और अपने पति की कमाई का हिसाब रखें। फाइनेंशियल एडवाइजर की मदद से लंबी अवधि के लिए वित्तीय लक्ष्य बनाएं और उसके हिसाब से निवेश करें। इसके अलाव पर्सनल फाइनेंस से जुड़ी किताबें, इंटरनेट के जरिए जानकारी जुटाएं।


वीडियो देखें