Moneycontrol » समाचार » बीमा

यूलिप पर पंकज मठपाल की सलाह

बीमा से जुड़ी तमाम उलझनों पर वित्तीय सलाहगार पंकज मठपाल की सलाह।
अपडेटेड Sep 25, 2010 पर 18:03  |  स्रोत : Hindi.in.com

25 सितंबर 2010

सीएनबीसी आवाज



वित्तीय सलाहकार पंकज मठपाल की सलाह है कि यूनिट लिंक्ड इंश्योरंस प्लान से फायदा उठाने के लिए लंबी अवधि तक बने रहना चाहिए। यूनिट लिंक्ड प्लान में 3 साल का लॉक इन पीरियड होता है। इसलिए कम से कम 3 साल के लिए पैसे लगाएं रखें।


 


अगर आपने तीन सालों का प्रीमीयम भर दिया है और आगे प्रीमियम नहीं देना चाहते तो बीमा कंपनी को इस बात की सूचना देनी चाहिए। ऐसा करने पर प्रीमियम न भरने पर भी आपका इंश्योरेंस कवर नहीं कटेगा।


पंकज मठपाल का कहना है कि जीवन बीमा में भरे पैसों को निकालने से बचना चाहिए। लेकिन अगर पैसों की बहुत जरूरत हो तब तीन साल के बाद पॉलिसी सरेंडर कर सकते हैं।


पॉलिसी सरेंडर करने से मिले पैसों को इक्विटी म्यूचूअल फंड में लगाने की सलाह पंकज मठपाल ने दी है। इक्विटी फंड में निवेश करके अच्छा रिटर्न मिल सकेगा।


प्रीमियम तय करते वक्त बीमा कंपनियां क्लेम, मार्केटिंग और दूसरे खर्चों को भी जोड़ती हैं। इसकी वजह से हर कंपनी का प्रीमियम अलग अलग होता है।


नए डायरेक्ट टैक्स कोड के अनुसार यूलिप प्लान का प्रीमियम, बीमा राशि के 10 फीसदी से नहीं होना चाहिए। अगर प्रीमियम 10 फीसदी से ज्यादा है, तो जीवन बीमा टर्म पॉलिसी लेनी बेहतर रहेगी।


बच्चों के लिए हमेशा लंबी अवधि का ही चाइल्ड प्लान लेना चाहिए।


बिडला सनलाइफ ड्रीम प्लान यूनिट लिंक्ड इंश्योरंस प्लान है। पंकज मठपाल के मुताबिक ज्यादा सम एश्योर्ड के लिए इस प्लान में पैसा लगाया जा सकता है।


बिडला सनलाइफ ड्रीम प्लान में नो क्लेम की स्थिति में भी टर्म पूरा होने पर कुल प्रीमियम के बराबर पैसा जरूर मिलता है। लेकिन, टर्म प्लान के मुकाबले बिडला सनलाइफ ड्रीम प्लान का प्रीमियम ज्यादा होता है।


वीडियो देखें