Moneycontrol » समाचार » बीमा

लाइफ कवर के लिए जरूरी है टर्म प्लान

आइए आपके निवेश से जुड़े सवालों के जबाव जानते हैं वाइजइन्वेस्ट एडवाइजर्स के सीईओ हेमंत रुस्तगी से।
अपडेटेड Oct 18, 2014 पर 14:12  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

योर मनी में हमारी कोशिश होती है आपको वो हर जरूरी जानकारी पहुंचाने की जो आपके पैसे से जुड़ी हो और फाइनेंशियल सिक्योरिटी से, इसलिए चाहे म्युचुअल फंड्स हो या फिर इंश्योरेंस, हम हमेशा देते हैं आपको एकदम सटीक सलाह और बताते हैं निवेश के मूल मंत्र। तो आइए आपके निवेश से जुड़े सवालों के जबाव जानते हैं वाइजइन्वेस्ट एडवाइजर्स के सीईओ हेमंत रुस्तगी से।


सवाल : 10 लाख रुपये कवर की मैक्स लाइफ की होल लाइफ पॉलिसी है। यह पॉलिसी पेड-अप कराई है। इस पॉलिसी को सरेंडर करने पर 1 लाख रुपये के करीब रकम मिलेगी। पिछले साल ही सेबी का टर्म प्लान लिया था, क्या अभी भी इस होल लाइफ पॉलिसी की जरूरत है? 


हेमंत रुस्तगी : अगर आप सिर्फ लाइफ कवर चाहते है तो मैक्स लाइफ की होल लाइफ पॉलिसी से निकल जाएं और टर्म प्लान में बने रहें। टर्म प्लान में प्योर लाइफ इंश्योरेंस मिलता है, कम प्रीमियम में ज्यादा कवर मिलता है। लेकिन ध्यान रखें कि इसमें सिर्फ कवर मिलता है, रिटर्न नहीं मिलता। यदि प्लान की अवधि में पॉलिसी होल्डर की मौत हो जाएं तो इसमें पूरा कवर मिल जाता है। हालांकि होल लाइफ प्लान में भी आपको आजीवन कवर मिलता है और साथ ही पॉलिसी सरेंडर करने पर पैसे भी मिलते हैं, लेकिन ज्यादा कवर के लिए इसमें बहुत ज्यादा प्रीमियम भी देना पड़ता है। जबकि टर्म इंश्योरेंस, होल लाइफ प्लान के मुकाबले सस्ता मिलता है।


टर्म प्लान ऑनलाइन लेने से काफी सस्ता पड़ता है। लेकिन टर्म प्लान लेने से पहले सभी कंपनियों के प्लान की तुलना जरूर करनी चाहिए और सारी शर्तें भी अच्छी तरह से पढ़नी चाहिए। टर्म प्लान में आप अपने जरूरत के मुताबिक राइडर जोड़ सकते हैं।


वीडियो देखें