Moneycontrol » समाचार » बाज़ार खबरें

तिमाही नतीजों के बाद निवेश की स्ट्रैटेजी

जानिए दूसरी तिमाही नतीजों के बाद अब बाजार में क्या स्ट्रैटेजी बनानी चाहिए और कहां हैं निवश के मौके।
अपडेटेड Nov 17, 2014 पर 13:06  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

इंफोसिस के नतीजों से शुरू हुआ दूसरी तिमाही के नतीजों का सीजन आखिर खत्म हो गया। दूसरी तिमाही में कंपनियों के नतीजे उम्मीद से कमजोर रहे हैं, हालांकि कुछ चुनिंदा कंपनियों ने अच्छे नतीजे पेश किए है। दूसरी तिमाही नतीजों पर अंतर्राष्ट्रीय और घरेलू दोनों कारणों का असर दिखा। रुपएये की कमजोरी से आईटी कंपनियों के रेवेन्यू में बढ़त दिखी पर क्रूड में गिरावट से जहां हमें और आपको फायदा हुआ वहीं ऑयल एंड गैस कंपनियों के आंकड़ें बिगड़ गए।


दूसरी तिमाही नतीजों के बाद अब बाजार में क्या स्ट्रैटेजी बनानी चाहिए और कहां हैं निवश के मौके ये बताने के लिए हमारे साथ हैं इंडिया निवेश सिक्योरिटीज के हेड ऑफ रिसर्च दलजीत सिंह कोहली और एंजेल ब्रोकिंग के फंड मैनेजर पी फणिशेखर।


इंडियानिवेश सिक्योरिटीज के दलजीत सिंह कोहली के मुताबिक दूसरी तिमाही में सिप्ला, ओएनजीसी, केर्न इंडिया, अल्ट्राटेक सीमेंट, प्रिज्म सीमेंट और इंजीनियर्स इंडिया के नतीजे अनुमान से कमजोर रहे हैं लेकिन इनमें अभी खरीदारी करनी चाहिए क्योंकि आगे चलकर इनमें तेजी आने की पूरी संभावना है।


इसके अलावा ल्यूपिन, एसबीआई, एबी नूवो, कैपिटल फर्स्ट, मैक्स इंडिया, गुजरात पीपावाव पोर्ट और थिंकसॉफ्ट ग्लोबल के नतीजे अच्छे रहने के चलते इन शेयरों में खरीदारी की जा सकती है।


एंजेल ब्रोकिंग के पी फणिशेखर के मुताबिक दूसरी तिमाही नतीजों के बाद हीरो मोटोकॉर्प, विप्रो, आईडीएफसी और टाटा मोटर्स के शेयरों में खरीदारी करनी चाहिए। इन कंपनियों के नतीजे आने के बाद इनमें खरीदारी करना फायदे का सौदा हो सकता है।


वीडियो देखें