Moneycontrol » समाचार » निवेश

एफडी पर घटेगी ब्याज, अब किसे अपनाएं

आरबीआई ने दरों में कोई बदलाव नहीं किया है। ऐसे में बैंक लॉन्ग टर्म डिपॉजिट दरों में कटौती करने का फैसला ले सकते हैं।
अपडेटेड Dec 04, 2014 पर 11:27  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

बेहतर जिंदगी के लिए खर्च और निवेश, इन दोनों के बीच तालमेल बैठाना बेहद जरूरी है जोकि आप एक अच्छी फाइनेंशियल प्लानिंग से हासिल कर सकते हैं।


दिसंबर पॉलिसी में रिजर्व बैंक ने दरों में कोई बदलाव नहीं किया, लेकिन अगले साल की शुरुआत में दरों में कटौती के संकेत मिल चुके हैं। ऐसे में बैंक लॉन्ग टर्म डिपॉजिट दरों में कटौती करने का फैसला ले सकते हैं।


अपना पैसा के हर्षवर्धन रूंगटा बता रहे हैं कि कैसे बचत के साथ अधिक निवेश किया जा सकता है और कौन से आकर्षक एफडी के विकल्प मौजूद हैं। और आप कहां पैसा लगाकर ज्यादा ब्याज कमा सकते हैं।


आरबीआई ने दरों में कटौती नहीं की है। हालांकि उसने नए साल में दरें घटाने संकेत दिए हैं। लेकिन ज्यादा लिक्विडिटी होने की वजह से बैक लॉन्ग टर्म डिपॉजिट दरों में कटौती करने का फैसला ले सकते हैं। यह कटौती 3 साल से ऊपर के टर्म डिपॉजिट पर संभव है। फिलहाल बैंक एफडी पर 9.25 फीसदी तक ब्याज दे रहे हैं।


हर्ष वर्धन रूंगटा के मुताबिक ब्याज दरें घटने का असर गिल्ट फंड पर पड़ेगा। निवेशक एफडी के विकल्प के तौर पर लॉन्ग टर्म गिल्ट फंड भी खरीद सकते हैं लेकिन इसके लिए निवेश का नजरिया 3 साल होना चाहिए।


हर्षवर्धन रूंगटा ने बताया कि रिटेल निवेशक 5 साल की एफडी में भी निवेश कर सकते हैं। या फिर लंबी अवधि की रिकरिंग डिपॉजिट भी शुरू कर सकरते हैं। हर्षवर्धन रूंगटा की सलाह है कि ज्यादा टैक्स देने वालों के लिए टैक्स सेविंग बॉन्डों में निवेश करना भी एक अच्छा विकल्प है।


वीडियो देखें