Moneycontrol » समाचार » बीमा

पी वी सुब्रमण्यम की इंश्योरेंस पर सलाह

इंश्योरेंस और इंश्योरेंस से जुडी समस्याओं पर लेखक एवं वित्तीय सलाहकार पी वी सुब्रमण्यम की राय
अपडेटेड Oct 09, 2010 पर 15:02  |  स्रोत : Hindi.in.com

9 अक्टूबर 2010

सीएनबीसी आवाज



इंश्योरेंस से जुडी समस्याओं पर लेखक एवं वित्तीय सलाहकार पी वी सुब्रमण्यम ने कुछ सुझाव बताए है।


 


पी वी सुब्रमण्यम के मुताबिक टर्म प्लान लेने से पहले कुछ जरुरी बातों का ध्यान रखना चाहिए। टर्म प्लान केवल भरोसे की कंपनी से ही लेना चाहिए। जिस बीमा कंपनी पर आपको भरोसा हो या जिस पॉलिसी में आपको अधिक सुविधाएं मिलती हो उसके आधार पर पॉलिसी लेने का फैसला करना चाहिए।


 


पी वी सुब्रमण्यम के मुताबिक एलआईसी की मनी बैक पॉलिसी में कम से कम 3 साल पैसा भरना जरुरी होता है। उसके बाद चाहे तो पैसा निकाल सकते है। लेकिन मनी बैक पॉलिसी में भी पूरा पैसा वापस मिलना मुश्किल होता है। कुछ रकम शुल्क आदि के रूप में कट सकती है।
 

पी वी सुब्रमण्यम की सलाह है कि बीमा विकल्पों में टर्म लाइफ इंश्योरेंस प्लान ले सकते है। पी वी सुब्रमण्यम के मुताबिक रेलिगेयर एगॉन, आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इंश्योरेंस, कोटक लाइफ इंश्योरेंस, एचडीएफसी स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस के टर्म प्लान अच्छे हैं।



पी वी सुब्रमण्यम के मुताबिक आपको खुद भी सतर्क रहना चाहिए जिससे बीमा एजेंट की ठगी से बच सकें या कोई गलत पॉलिसी ना ले लें । कोई भी पॉलिसी लेने से पहले दस्तावेजों को ध्यान से पढना चाहिए क्योंकि अगर कोई पॉलिसी ली जाती है तो उसमें कम से कम तीन प्रीमियम भरना जरूरी होता है।
 




पी वी सुब्रमण्यम का कहना है कि कंपनियां लागत, मुनाफे, कमीशन, री-इंश्योरेंस रेट के आधार पर अपना प्रीमियम तय करती हैं। इसी वजह से अलग-अलग कंपनियों की समान टर्म और समान कवर वाली पॉलिसी के प्रीमियम में अंतर होता है।



वीडियो देखें