Moneycontrol » समाचार » म्यूचुअल फंड विश्लेषण

क्यों दमदार है एक्सिस लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड

जानते हैं किस आधार पर शेयर या डेट इंस्ट्रूमेंट में पैसा लगाया जाए, बेहतर रिटर्न के लिए क्या हो सही पैरामीटर।
अपडेटेड Apr 16, 2015 पर 11:37  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

निवेशकों के लिए म्युचुअल फंड पैसा कमाने का सबसे बेहतर जरिया है। इसमें शेयर या डेट इंस्ट्रूमेंट में पैसा लगाने का फैसला फंड मैनेजर की टीम करती है। किस आधार पर शेयर या डेट इंस्ट्रूमेंट में पैसा लगाया जाए, बेहतर रिटर्न के लिए क्या हो सही पैरामीटर, इन सब मुद्दों पर एक फंड मैनेजर क्या सोचता है, इस पर जानते हैं एक्सिस म्युचुअल फंड के इक्विटी हेड पंकज मुरारका की राय।


एक्सिस म्युचुअल फंड के बेहतरीन स्कीमों में शामिल एक्सिस लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड को पंकज मुरारका ही मैनेज करते हैं। एक्सिस लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड का एयूएम 3870 करोड़ रुपये का है और इसका कई सेक्टरों में एलोकेशन है। बैंकिंग में 17.07 फीसदी, फाइनेंस में 13.72 फीसदी, सॉफ्टवेयर में 10.69 फीसदी, फार्मा में 8.91 फीसदी, कंज्यूमर ड्युरेबल्स में 7.75 फीसदी, ऑटो एंसिलियरी में 6.25 फीसदी, ऑटो में 6.23 फीसदी और पावर में 2.42 फीसदी का एलोकेशन है।


एक्सिस लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड के शेयरों के एलोकेशन पर नजर डालें तो एचडीएफसी बैंक में 8.84 फीसदी, कोटक महिंद्रा बैंक में 6.49 फीसदी, एलएंडटी में 5.61 फीसदी, एचडीएफसी में 5.19 फीसदी, टीसीएस में 4.79 फीसदी, टेक महिंद्रा में 4.35 फीसदी, सन फार्मा में 4.06 फीसदी, टीटीके प्रेस्टीज में 3.57 फीसदी, मारुति सुजुकी में 3.76 फीसदी और पिडिलाइट इंडस्ट्रीज में 3.18 फीसदी का एलोकेशन है।


एक्सिस लॉन्ग टर्म इक्विटी फंड ने पिछले 1 साल के दौरान 66 फीसदी का रिटर्न दिया है, जबकि इसने अपनी शुरुआत से अब तक 23.4 फीसदी का रिटर्न दिया है। एक्सिस म्युचुअल फंड के इक्विटी हेड पंकज मुरारका का कहना है कि उनको ऑटो और कैपिटल गुड्स सेक्टर पसंद हैं। साथ ही कमोडिटीज पर उनका निगेटिव नजरिया है जिससे मेटल और माइनिंग सेक्टर में तेजी मुश्किल नजर आ रही है।


पंकज मुरारका के मुताबिक 1-2 साल के लिए इक्विटी में निवेश करना सबसे ज्यादा बेहतर होगा और इस अवधि में अच्छे रिटर्न की उम्मीद की जा सकती है। निवेशकों को छोटी अवधि के उतार-चढ़ाव से घबराना नहीं चाहिए और गिरावट में खरीदारी पर फोकस करना चाहिए।


वहीं म्युचुअल फंड इंडस्ट्री से जुड़ी एक और खबर आ रही है। म्युचुअल फंड में निवेश करने वालों के लिए एक राहत की खबर है। सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्स यानि सीबीडीटी ने साफ किया है कि एफएमपी में रोलओवर करने पर अब कैपिटल गेन्स टैक्स नहीं लगेगा। बल्कि सिर्फ रीडेम्पशन पर 20 फीसदी का टैक्स लगेगा।


वीडियो देखें