Moneycontrol » समाचार » म्यूचुअल फंड खबरें

रिटेल इंवेस्टर्स का एमएफ ऐसेट बेस 51% बढ़कर 2.43 लाख करोड़ रु

रिटेल इंवेस्टर्स का ऐसेट बेस 31 मार्च 2015 तक 51 फीसदी बढ़कर 2.43 लाख करोड़ रुपये हो गया है।
अपडेटेड May 07, 2015 पर 15:46  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

रिटेल इंवेस्टर्स का ऐसेट बेस 31 मार्च 2015 तक 51 फीसदी बढ़कर 2.43 लाख करोड़ रुपये हो गया है। ये अंतर 1 साल पहले के स्तर के मुकाबले लिया गया है। म्युचुअल फंड इंडस्ट्री आंकड़ों के मुताबिक रिटेल इंवेस्टर्स के पास मार्च 2015 तक 2,43,569 करोड़ रुपये के ऐसेट थे जबकि पिछले मार्च यानी मार्च 2014 तक रिटेल इंवेस्टर्स के पास 1,61,783 करोड़ रुपये के ऐसेट थे।


शीर्ष म्युचुअल फंड में से रिलायंस म्युचुएल फंड ने सबसे ज्यादा ग्रोथ देखी। रिटेल इंवेस्टर्स के ऐसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) के प्रतिशत और कुल ऐसेट में बढ़त देखी गई। रिलायंस एमएफ का ऐसेट बेस रिटेल इंवेस्टर्स के लिए 95 फीसदी बढ़कर 13,270 करोड़ रुपये से 27,307 करोड़ रुपये हो गया है।


इसके बाद आईसीआईसीआई एमएफ का नंबर आता है जिसके रिटेल इंवेस्टर्स के ऐसेट अंडर मैनेजमेंट में 80 फीसदी की ग्रोथ रही है और ये 24,639 करोड़ रुपये हो गया है। बिड़ला सन लाइफ का एयूएम 63 फीसदी बढ़कर 16,020 करोड़ रुपये और एचडीएफसी एमएफ का एयूएम 46 फीसदी बढ़कर 40,272 करोड़ रुपये हो गया है। वहीं यूटीआई एमएफ का एयूएम 34 फीसदी बढ़कर 35,124 करोड़ रुपये हो गया है।


कुल मिलाकर सभी म्युचुअल फंड हाउस के ऐसेट मिलकर 12 लाख करोड़ रुपये के हो गए हैं। ज्यादातर पैसा इक्विटी आधारित स्कीमों में आया है जिसके पीछे का कारण शेयर बाजार में आई रैली रहा है।