Moneycontrol » समाचार » प्रॉपर्टी

रियल एस्टेट: कैसा है हैदराबाद का बाजार

प्रकाशित Wed, 27, 2015 पर 16:15  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

आज हम आपको ले चलते हैं तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद के हाईटेक सिटी एरिया में। उत्तर पश्चिम हैदराबाद में 151 एकड़ पर फैला इसी हाई-टेक सिटी से हैदराबाद को साइबराबाद का नाम मिला है। आईबीएम, माइक्रोसॉफ्ट, गूगल, ओरेकल, अमेजन, टीसीएस, टेक महिंद्रा जैसे नामी आईटी कंपनियों के ऑफिस यहां पर है। अब जाहीर है, ये हैदराबाद का आईटी हब है, तो इंफ्रास्ट्रक्चर भी बहतरीन ही होगा।


हाईटेक सिटी का अपना एमएमटीएस स्टेशन तो है ही, साथ ही जल्द शुरु होने वाले मेट्रो का भी इस इलाके  को फायदा होगा। आउटर रिंग रोड इसे एयरपोर्ट और हैदराबाद शहर के दूसरे इलाकों से जोड़ता है। सोशियल इंफ्रास्ट्रक्चर भी बढ़ीया है। मॉल हो, या फाइव स्टार और बिजनेस होटल्स, या फिर स्कूल और अस्पताल, ऑप्शंस की यहां कोई कमी नहीं है। अब जाहीर है, जहां नौकरी होगी, वहां मकानों के लिए भी अच्छा-खासा डिमांड रहेगा। और इसी वजह से पिछले कुछ सालों में ये इलाका एक पसंदीदा रेसीडेंशियल मार्केट के तौर पर भी उभरा है।


अपने टार्गेट सेग्मेंट को नजर में रखते हुएं, यहां बन रहें ज्यादातर मकान भी 2-3 बेड वाले मिड-प्रीमीयम सेग्मेंट के मकान है। और इनकी कीमत 4000-5500 वर्गफुट के बीच है। हाईटेक सिटी में महींद्रा लाईफस्पेसेस, लोढ़ा ग्रूप और प्रेस्टीज जैसे कई नामी डेवलपर्स के प्रोजेक्ट आपको मिल जाएंगें। दरअसल, जानकार तो बताते हैं, कि निवेश के नजरिए से भी ये इलाका हैदराबाद में बेस्ट च्वाइस है।


अब बात करते हैं यहां की रियल्टी कंपनी साइबरसिटी बिल्डर्स एंड डेवलपर्स की जिसने 6 साल में 10 लाख वर्ग फुट से ज्यादा की सप्लाई की है। 2008 में शुरु हुई कंपनी साइबरसिटी बिल्डर्स एंड डेवलपर्स ने बहुत कम वक्त में हैदराबाद के रियल्टी मार्केट में अपना नाम बनाया है। अशोका बिल्डर्स और सीरियल आंत्रप्रेन्योर वेणु विनोद की ये कंपनी आफिस और मकान, दोनों बनाती है। और इनके ज्यादातर प्रोजेक्ट प्रीमीयम सेग्मेंट में आते हैं।


साइबरसिटी बिल्डर्स एंड डेवलपर्स अपने इंजीनीयरींग एक्सपर्टीज के लिए मश्हूर है और उसके ज्यादातर प्रोजेक्ट्स बडे फार्मेट के डेवलपमेंट है जहां मकानों के साथ वो स्कूल, बैंक जैसी सुविधाएं भी देतें हैं। हाई टेक सिटी में बन रहा इनका प्रोजेक्ट रेन्बो विस्टास एक मिक्स्ड यूज डेवलपमेंट है। जो कि कंपनी ने वर्क, लिव, लर्न एंड प्ले कंसेप्ट पर बनाया है। यहां पर कंपनी 1 करोड़ वर्गफुट एरिया बनाने वाली है जहां पर 60 लाख वर्गफुट रेसीडोंशियल स्पेस बनेगा और 32 लाख वर्गफुट में ऑफिस।


इस प्रोजेक्ट में एक 5 स्टार होटेल भी बनाने की योजना है और 50 लाख वर्गफुट का मॉल भी बनेगा। ये रेन्बो विस्टास कंपनी का अब तक का सबसे बडा प्रोजेक्ट है। कुल मिलाकर साइबरसिटी डेवलपर्स मार्केट में करीब 100 करोड रुपये वैल्यु के प्रोजेक्ट लाने की तैयारी में है।


अब बात साइबरसिटी डेवलपर्स के प्रोजेक्ट रेन्बो विस्टास हैदराबाद की। रेन्बो विस्टास हैदराबाद की खासियत है इसकी लोकेशन। करीब 70 एकड़ पर फैला ये प्रोजेक्ट ठीक हाइ टेक सिटी और कुक्कटपल्ली इलाकों के बीच बनेगी। यानि, बड़े-छोटे निवेशक के पसंदीदा हाइ टेक सिटी-कुक्कटपल्ली-गच्छीबावली आईटी कॉरिडोर का इसे पूरा फायदा मिलेगा।


तीन फेज में बन रहें इस प्रोजेक्ट का पहला फेज बिक गया है। अब फेज 2 यानि रेन्बो विस्टास एट रॉक गार्डेन पर काम जारी है। जहां 22 एकड़ पर बनेंगे 2, 3 बीएचके और 3 प्लस 1 मकान वाले 13 टॉवर। 20 मंजील वाले ये टॉवर के साथ बनेगा 1 लाख वर्गपुट पर फैला लेजर स्पेस। इसमें 7 एकड़ का सेंट्रल पार्क होगा, बिजनेस सेंटर, कार वॉश, स्पा, डे केयर फेसिलिटी और स्वीमिंग पूल जैसी सुविधाएं होंगी। कॉम्प्लेक्स के बीच पत्थरों पर बनेगा हिल टॉप क्लब हाउस। रेन्बो विस्टास एट रॉक गार्डेन को लीड गोल्ड सर्टिफिकेशन भी मिला है। यानि, ये प्रोजेक्ट इको-फ्रेंडली भी है।


दूसरे फेज में भी कंपनी 4 टॉवर का पजेशन दे चुकीं है। और दिसंबर 2018 तक बाकी टॉवर का भी पजेशन देने की योजना है। तीसरे फेज में प्रीमीयम मकानों के साथ मॉल, मल्टीप्लेक्स, ऑफिस और स्कूल-कॉलेज बनेंगें। साइबरसिटी डेवलपर्स को उम्मीद है कि 2020 तक ये प्रोजेक्ट वो पूरा कर पाएंगें।


वीडियो देखें