Moneycontrol » समाचार » फाइनेंशियल प्लानिंग

वर्किंग विमेन की सटीक फाइनेंशियल प्लानिंग

प्रकाशित Sat, 27, 2015 पर 17:27  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

महिलाओं के लिए कुछ भी करना नामुमकिन नहीं है। घर हो या दफ्तर, पूरी शिद्दत से महिलाएं सारी जिम्मेदारियां निभाती हैं। लेकिन यही होम मैनेजर्स जब पर्सनल फाइनेंस की बात आती है, तो जरा पीछे रह जाती हैं। बचत करने में माहिर महिलाएं पैसे को तो बखूबी संभाल लेते हैं, लेकिन इसे कहां लगाना है, कहां निवेश करना है, इस पर कैसे अच्छा रिटर्न कमाना है, इस मोर्चे पर मात खा जाती हैं। आज महिलाओं को बचत और निवेश पर सलाह देने के लिए हमारे साथ हैं रूंगटा सिक्योरिटीज के डायरेक्टर हर्षवर्धन रूंगटा


सवाल:  मेरा उम्र 28 साल और आय 5.53 लाख रुपये सलाना है। मैं हर महीने 6078 रुपये की ईएमआई देती हूं। इसके अलावा मैं एलआईसी में हर महीने 7000 रुपये, पीपीएफ में 3500 रुपये महीने और यूलिप में 16000 रुपये सलाना जमा करती हूं। मैं हेल्थ इंश्योरेंस के लिए 4500 रुपये और एमएफ के लिए 2000 रुपये हर महीने और निवेश करती हूं। मेरे फंड हैं एसबीआई ब्लूचिप (जी) और यूटीआई एमएनसी। मेरी सभी इंश्योरेंस पॉलिसी 40 साल की उम्र तक के लिए है। क्या सभी एलआईसी पॉलिसी आगे जारी रखना चाहिए? मुझे 12 साल के बाद 50 लाख रुपये चाहिए। म्युचुअल फंड में निवेश पर सलाह चाहिए?


जवाब: आपकी बचत अच्छी लेकिन निवेश सही नहीं है। आपने कई यूलिप और ट्रेडिशनल प्लान में निवेश किया है। आप पता करें कि किन पॉलिसी में निवेश रोक सकते हैं। इक्विटी और डेट में निवेश में संतुलन होना जरूरी होता है। आपके मौजूदा निवेश से 12 साल में 50 लाख रुपये का लक्ष्य मुश्किल है। अगर आप यूलिप सरेंडर कर सकती हैं तो कर दें। सारे बचे हुए पैसे एसआईपी के जरिए इक्विटी में निवेश करें। आप पीपीएफ, हेल्थ इंश्योरेंस में निवेश जारी रखें।


सवाल: मेरा उम्र 51 साल है। मैं हर महीने म्युचुअल फंड में 10000 रुपये निवेश करती हूं। मेरे फंड हैं रिलायंस ग्रोथ फंड, रिलायंस फार्मा फंड, डीएसपी ब्लैक रॉक टॉप 100,  एचडीएफसी टॉप 200, एलएंडटी इक्विटी फंड, रिलायंस रेगुलर सेविंग्स फंड और आईडीएफसी प्रीमियर इक्विटी फंड।


जवाब: आपके सभी निवेश अच्छे, निवेश जारी रखें। हां, निवेश के लिए फंड की संख्या कम रखें। आप अलग-अलग कैटेगरी के फंड में निवेश करें। तय करें कि लार्ज कैप, मिडकैप में कितना निवेश करना है। फिलहाल मौजूदा निवेश जारी रखें। जब निवेश बढ़ाएं तब पोर्टफोलियो में बदलाव पर सलाह लें।


वीडियो देखें