Moneycontrol » समाचार » कंपनी समाचार

फ्यूचर ग्रुप-पतंजलि आयुर्वेद के बीच करार का ऐलान

प्रकाशित Fri, 09, 2015 पर 12:36  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

फ्यूचर ग्रुप और बाबा रामदेव के पतंजलि आयुर्वेद के बीच करार का ऐलान हो गया है। अब से पतंजलि आयुर्वेद के उत्पाद फ्यूचर ग्रुप के बिग बाजार में मिल सकेंगे। 20 महीने में फ्यूचर ग्रुप की पतंजलि आयुर्वेद के उत्पादों की बिक्री के जरिए 1000 करोड़ रुपये का कारोबार करने की योजना है। फ्यूचर ग्रुप के किशोर बियानी के मुताबिक पतंजलि देश में क्रांति ला सकता है और वो पतंजलि के प्रोडेक्ट देश में घर-घर तक पहुंचाना चाहते हैं। पतंजलि को वॉलमार्ट और पीएंडजी की तरह देश का सबसे बड़ा नाम बनाया जाएगा।


फ्यूचर ग्रुप और पतंजलि आयुर्वेद की संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रैंस में बाबा रामदेव ने कहा कि उन्हें पतंजलि के लिए स्वदेशी रिटेल चेन की तलाश थी और फ्यूचर ग्रुप के बिग बाजार के जरिए वो स्वेदशी अभियान को आगे बढ़ाएंगे। बिग बाजार पूरी तरह स्वेदशी चेन है। बाबा रामदेव के मुताबिक फ्यूचर ग्रुप और पतंजलि मिलकर स्वेदशी का भविष्य संवारेंगे। बाबा रामदेव ने किशोर बियानी को रिटेल का शहंशाह बताया और कहा कि भारत में 5 साल पतंजलि स्वदेशी रिटेल ब्रांड में सबसे बड़ा नाम होगा।


रामदेव बाबा के मुताबिक वो स्वस्थ्य प्रतिस्पर्द्धा बाजार में लेकर आए हैं और उनका मकसद स्वदेशी को बढ़ाना है, लेकिन वो एमएनसी के खिलाफ नहीं हैं। अगले 5 साल में पतंजलि देश की सबसे बड़ी एफएमसीजी और फूड कंपनी बनेगी। उन्होंनें फ्यूचर ग्रुप से मैन्युफैक्चरिंग को लेकर बात शुरू की है और जल्द ही वो फ्यूचर ग्रुप के कर्नाटक में मौजूदा फूड पार्क में साथ काम करेंगे।


किशोर बियानी ने कहा कि पतंजलि के प्रोडक्ट काफी मशहूर हैं और अब फ्यूचर ग्रुप को पतंजलि के प्रोडक्ट को हर घर में पहुंचाना है। शुरुआत में 40-50 करोड़ रुपये की हर महीने बिक्री की उम्मीद है। वहीं नए प्रोडक्ट्स आने पर बिक्री 90 करोड़ रुपये प्रति महीने पहुंच जाएगी। फ्यूचर ग्रुप का पतंजलि के साथ मैन्युफैक्चरिंग का भी प्लान है जो दोनों की साझेदारी को और मजबूत करेगा।


गौरतलब है कि सीएनबीसी-आवाज़ ने सबसे पहले आपको फ्यूचर ग्रुप और पतंजलि आयुर्वेद के बीच करार होने की खबर सूत्रों के मुताबिक दिखाई थी। सीएनबीसी-आवाज़ ने 48 घंटे पहले ही आपको इस करार के होने की खबर दी थी।


पतंजलि आयुर्वेद का टर्नओवर करीब 2000 करोड़ रुपये है और देश बर में इसके 4000 स्टोर हैं। पतंजलि आयुर्वेद आयुर्वेदिक दवाओं से लेकर एफएमसीजी उत्पादों की तक की बिक्री करती जिसमें टूथपेस्ट, नूडल, नाइट सूट जैसे सामानों की बिक्री शामिल है।


किशोर बियानी के साम्राज्य की बात करें तो किशोर बियानी फ्यूचर रिटेल के मालिक हैं। फ्यूचर रिटेल के बिग बाजार, फूड बाजार होमटाउन, ईजोन जैसे स्टोर हैं। फ्यूचर ग्रुप ने इसी साल भारती रिटेल को खरीदा है। उम्मीद है कि 2015 में फ्यूचर रिटेल का टर्नओवर 15,000 करोड़ रुपये के आसपास रहेगा।


टेक्नोपैक की प्रज्ञा सिंह का कहना है कि एक ब्रांड के रूप में पतंजलि ने खुद को काफी अच्छी तरह स्थापित किया है और ये स्वदेशी सामान के लिए पसंदीदा नाम बन गया है। वहीं फ्यूचर ग्रुप को पतंजलि के उत्पादों को अपने स्टोर में जगह देने से इनका फुटफॉल भी बढ़ेगा। इस तरह ये करार दोनों ही के लिए काफी अच्छा करार है। पतंजलि ग्रुप की 2 साल में 1000 करोड़ रुपये का कारोबार करने की योजना है जिसके पूरे होने की उम्मीद है।


फ्यूचर ग्रुप के साथ हाथ मिलाने के बाद पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड का अगला कदम अब बाजार में खुद को लिस्ट कराने का हो सकता है। दो महीने पहले ही बाबा रामदेव की इस कंपनी के बिजनेस प्लान को लेकर सीएलएसए ने एक रिपोर्ट जारी की थी। इस रिपोर्ट में रामदेव बाबा की कंपनी के तेजी से बढ़ते कदम और आने वाले दिनों में इसके शेयर मार्केट में लिस्ट की संभावना जाहिर की है।


1997 में एक छोटी से फार्मेसी से शुरू करके 2,000 करोड़ रुपये सालाना तक का टर्नओवर, जी हां, यही है कारोबारी बाबा रामदेव बाबा की पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड का जादू। इस जादू का लोहा रिटेल बिजनेस के दिग्गज फ्यूचर ग्रुप ने भी मान लिया है और रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद से हाथ मिला लिया। इसके बाद अब पतंजलि के शेयर बाजार में आने की संभावना भी बढ़ गई है।


रिसर्च फर्म सीएलएसए ने अगस्त में ही एक रिपोर्ट में कहा है कि आने वाले दिनों में बाबा रामदेव की पतंजलि को शेयर मार्केट में लिस्ट होना चाहिए। सीएलएसए इस रिपोर्ट के मुताबिक पतंजलि आयुर्वेद देश की टॉप एफएमसीजी कंपनियों को कड़ी टक्कर ही नहीं दे रही बल्कि जल्द उन्हें पीछे छोड़ देगी। रिपोर्ट में कहा गया है कि पतंजलि आयुर्वेद इमामी के साथ ज्योति लैब्स, मारिको और डाबर जैसी दिग्गज कंपनियों को कड़ी टक्कर दे रही है।


पतंजलि आयुर्वेद ने दवाइयों से शुरुआत की थी। लेकिन धीरे-धीरे खाने-पीने की चीजों से लेकर ब्यूटी प्रोडक्ट्स तक पैर पसार दिए। फेस वॉश, डिटर्जेंट से लेकर टूथ ब्रश, साबुन से लेकर सरसों के तेल और आटे तक, सबकुछ का कारोबार कर रहे हैं बाबा रामदेव। पतंजलि बाबा रामदेव के अपने योग शिविरों में स्वदेशी चीजों का प्रचार करने का फायदा भी पतंजलि को मिला है। इसके प्रोडक्ट्स दूसरी कंपनियों की तुलना में काफी सस्ते भी हैं।


हाल के दिनों में आयुर्वेद में लोगों की रुचि बढ़ी है जिसका असर पतंजलि के प्रोडक्ट की बढ़ती मांग में देखा जा सकता है। फिर पतंजलि आयुर्वेद विज्ञापन पर भी बहुत कम खर्च करती है। कंपनी के तमाम प्रोडक्ट्स ऑनलाइन भी बेचे जा रहे हैं। फिलहाल कुल 4,000 स्टोर्स में पतंजलि के प्रोडक्ट्स बेचे जा रहे हैं। यानि कम लागत में कंपनी को ज्यादा मुनाफा हो रहा है। पतंजलि की आक्रामक मार्केटिंग ने नेस्ले और दूसरी दिग्गज एफएमसीजी मल्टीनेशनल कंपनियों के सामने भी कड़ी चुनौती पेश कर दी है। ऐसे में माना जा रहा है कि पतंजलि अगर अपना आईपीओ लेकर आती है तो वो भी निवेशकों के बीच अच्छा खासा लोकप्रिय होगा।


वीडियो देखें