Moneycontrol » समाचार » बीमा

योर मनीः कैसे खुलवाएं ई-इंश्योरेंस अकाउंट

योर मनी में जानेंगे ई-इंश्योरेंस की खासियत और साथ ही जानेंगे लोग इसका फायदा कैसे उठा सकते हैं।
अपडेटेड Dec 26, 2015 पर 14:38  |  स्रोत : CNBC-Awaaz

अपना कल बेहतर बनाने के लिए हमें अपने आज पर फोकस करना चाहिए और इसके लिए जरूरी है सही फाइनेंशियल प्लानिंग...अपनी मेहनत की कमाई को कहां लगाया जाएं, जिससे आपका आज, कल और भविष्य सुनहरा बने ये पता लगाना जरूरी है। आजकल बाजार में तमाम तरह के म्युचुअल फंड, एसआईपी और फंड की भरमार है और ऐसे में अपनी कमाई और जरूरत के हिसाब से कौन सा फंड आपको लेना चाहिए इसका चुनाव करना मुश्किल हो जाता है, योर मनी आपकी इन्हीं समस्याओं को सुलझाने की कोशिश करता है और इसमें आपकी मदद करेंगे बजाज कैपिटल के ग्रुप सीईओ अनिल चोपड़ा


योर मनी में सबसे पहले बात करेंगे ई-इंश्योरेंस की। आखिर ई-इंश्योरेंस की खासियतें क्या हैं और लोग इसका फायदा कैसे उठा सकते हैं आइए जानते हैं।


ई-इंश्योरेंस का मतलब है इलेक्ट्रॉनिक इंश्योरेंस। इसमें पॉलिसी डॉक्यूमेंट इलेक्ट्रॉनिक फॉर्मेट में रखे जाते हैं और इसमें ग्राहकों को एक क्लिक पर अपना इंश्योरेंस पोर्टफोलियो मिलता है। एनएसडीएल, सीआईआरएल, एसएचसीआईएल, सीएएमएस और कार्वी ये पांच एजेन्सी ई-इंश्योरेंस देते हैं। ई-इंश्योरेंस अकाउंट खुलवाने के लिए कोई फीस नहीं लगती है। ई-इंश्योरेंस अकाउंट फॉर्म भरकर इसे इंश्योरेंस रिपॉजिटरी में जमा कराना होता है। अन्य अधिकृत कंपनी में भी फॉर्म जमा करा सकते हैं।


ई-इंश्योरेंस में हेल्थ और पेंशन सहित सभी व्यक्तिगत इंश्योरेंस पॉलिसी शामिल है। ग्रुप इंश्योरेंस पॉलिसी सहित सभी जनरल इंश्योरेंस पॉलिसी भी शामिल है। इसके अलावा इन गाइडलाइंस के तहत निर्धारित दूसरी सभी पॉलिसी इसमें शामिल है। ई-इंश्योरेंस अकाउंट खोलने के लिए फोटो पहचान पत्र, एड्रेस प्रूफ, पासपोर्ट साइज फोटो और कैंसिल चेक जैसे डॉक्यूमेंट जरूरी हैं।   


वीडियो देखें